Pages

Wednesday, March 7, 2012

मेरे सांवरे


हाय ! रंगों को भी
कुछ न समझ में आये
मेरा भोला फागुन भी भरमाये..
मैं न जानूं मेरे बावरे
तुझे मेरा कौन सा रंग भाये
जिसमें तू रंग-रंग जाये..
और मुझे भी ऐसे अंक लगाये
कि अंग-अंग केसर बन जाये....
फिर देख पड़ोसन जल-भुन जाये
भरदम कानाफूसी करके
आपस में उलझ-सुलझ जाये.....
सुनो न ! मेरे सांवरे
सब नाजो-नखरा छोड़ कर
तेरी बावरी क्या बोली-
तेरे संग खेलेगी वह होली
और वे झिलमिल तारे
नभ की डोली सजायेंगे
सारे बादल कहार बन जायेंगे
बस तुम मेरे रंग महल में आओ
मदिरा सा अपना प्यार लुटाओ....
मैं भी फागुनी बयार बनके
बेला ,चंपा ,चमेली से
सोलहों श्रृंगार करके
प्राणों से प्रणय की मनुहार करके
खुशबु सी यौवन लिए सकुचाउंगी
और सांस भर-भर कर
मेरे सांवरे
बस तेरे ही रंग में रंग जाउंगी .

52 comments:

  1. रंग बिखेरती प्यारी रचना .... होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 08 -03 -2012 को यहाँ भी है

    ..रंग की तरंग में होली की शुभकामनायें .. नयी पुरानी हलचल में .

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बढ़िया

    आपको होली की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  4. सब रंगों से अच्छा रंग प्रेम का ही होता है. ये पंक्तियाँ अध्यात्म के धरातल तक ले जाती हैं. बहुत अच्छा लगा कि सोलह श्रृंगारों में आपने लज्जा को शामिल किया है. सुंदर रचना. होली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब्………। होली की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  6. एक स्नेहिल रंग हमारी तरफ से ...

    ReplyDelete
  7. पिया के रंग में रंगना भी तो होली के रंग में रंगना है ... जो लगने के बाद नहीं छूटता ...
    होली की मंगल कामनाएं ...

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रेम रंग से सराबोर रचना.. होली की हार्दिक शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  9. एक रंग में रंगा प्रेम जब,
    मानो होली आयी तब..

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन प्रस्तुति,बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति....
    अमृता जी,..होली की बहुत२ बधाई शुभकामनाए...

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...रंग रंगीली होली आई,

    ReplyDelete
  11. बस तेरे ही रंग रंग जाऊँगी...

    मेरे जैसे बन जाओगे जब इश्क तुम्हें हो जायेगा...कुछ ऐसा ही भाव है...प्रेम की परिणति...होली की शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  12. Sundar, prerana dene wali rachna!

    ReplyDelete
  13. प्रेम के रंग से सराबोर सुन्दर रचना. होली की शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सपरिवार होली की मंगलकामनाएँ!

    ReplyDelete
  15. Bahut sundar likha hai aapne...
    Holi ki hardik shubhkaamnayen!

    ReplyDelete
  16. होली है होलो हुलस, हुल्लड़ हुन हुल्लास।
    कामयाब काया किलक, होय पूर्ण सब आस ।।

    ReplyDelete
  17. बहुत ही खुबसूरत रंगों से भरा हो आपका होली का त्यौहार.....

    ReplyDelete
  18. होली का स्वागत करती हुई इसके रंगों से सराबोर रचना। आपको होली का बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  19. आपको सपरिवार होली की मंगलकामनाएँ!

    ReplyDelete
  20. .

    आध्यात्म और शृंगार का सुंदर सम्मिश्रण आनंदित कर गया …

    आभार और बधाई !

    ReplyDelete
  21. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    ♥ होली ऐसी खेलिए, प्रेम पाए विस्तार ! ♥
    ♥ मरुथल मन में बह उठे… मृदु शीतल जल-धार !! ♥



    आपको सपरिवार
    होली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    *****************************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    ReplyDelete
  22. इक दूजे का रंग जब दोनों पर चढ जाएगा तो भिन्नता रह ही नहीं जायेगी ....परिणति की कल्पना बहुत सुन्दर है

    ReplyDelete
  23. होली की अनेकों मंगलकामनाएं.

    ReplyDelete
  24. सटीक और सामयिक अभिव्यक्ति.
    होली की हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  25. सुन्दर आत्मिक अध्यात्मिक रस सिक्त पंक्तियाँ . आनंद आया पढ़कर . रंग पर्व की शुभकामनायें ..

    ReplyDelete
  26. बस तेरे ही रंग रंग जाऊँगी...
    तुम राधे बनो श्याम .......श्याम रंग में रंगी चुनरिया ,अब रंग दूजो भावे न ,जिन नैनं में श्याम बसें हैं और दूसरो आवे न .....

    मीरा भाव की ,राधा भाव की बहुत सुन्दर रचना ...होली मुबारक अबीर गुलाल मुबारक ....

    ReplyDelete
  27. प्रेम भरी प्रस्तुति...होली की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  28. रंगों की बारिश में डूबता-उतराता यायावर मिजाज

    बहुत सुन्दर लिखा आपने..


    मेरी ओर से भी होली की शुभकामनायें आपको

    ReplyDelete
  29. बहुत प्यारी सी रचना इस सुंदर उत्सव पर ...बधाई!

    ReplyDelete
  30. बहतु बढिया
    होली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  31. आनंदित कर गया …होली की मंगलकामनाएं.

    ReplyDelete
  32. सब रंगों में अनूठा.....प्रेम का रंग....सराबोर हो जाएँ.....

    शुभकामनाएँ.....

    ReplyDelete
  33. होली की शुभकामनायें अमृता जी .

    ReplyDelete
  34. परमात्मा साकार स्वरुप में कृष्ण और गोपिकाएं जीव भाव को अभिब्य्कता के अधीन सनातन महाभाव के महाकर्षण के प्रेम रस में बावरी बनी कृष्ण के रंग में औरकृष्ण गोपियों क्र रंग में महारास में रत .इस प्रेम को छूती आपकी कविता मानव मन के प्रेम की अशीम चाहत को अभीब्यक्त करती हुई ह्रदय के पार कंही निःसीम को छू गयी .इतनी भावभरी अभिब्यक्ति के लिए मेरे शब्द छते पड़ रहे हैं.होली के सारे रंग आपके परिवार के लिए.....

    ReplyDelete
  35. प्रेम रंग में रंगी सुंदर रचना..
    होली पर्व कि ढेर सारी शुभ कामनाये

    ReplyDelete
  36. सुन्दर प्रस्तुति ....होली एवं अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं जी आपको

    ReplyDelete
  37. rang bikhre pade hai har bhav ke sath .... bahut sari badhaiya !!

    ReplyDelete
  38. बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति !
    होली की बधाई :)

    ReplyDelete
  39. MERE SANWARE
    BAS TERE HI RANG MEN RANG JAUNGI
    THIS IS THE COLOUR OF HOLI AND LOVE.

    ReplyDelete
  40. इस होली तू ....
    इस होली तू लगती न्यारी
    रूठ रूठी लगती प्यारी
    ला गुलाल अब खेलूं होली
    मस्त हुई रंगों की टोली
    धूलिवंदन बिन भंग अधूरा
    तू मद मस्त, रंगी है पूरा /
    ला टेसू रंग ,सारा रंग दूँ
    अंग बचे ना ,अंगिया रंग दूँ
    उधर कहीं तू छुपती कब तक
    पिचकारी से बचती कब तक ?
    बच्चे दूर वहां किलकारी
    अब रंग लगा , लगे तू प्यारी
    अब भाग कहाँ ,ये ले पिचकारी
    इस होली तू लगती न्यारी //

    ReplyDelete
  41. प्रेम रंग में रंगी ....सुंदर रचना ....!!

    ReplyDelete
  42. बेहतरीन अभिव्यक्ति....होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  43. होली की शुभकामनाओं के साथ सुन्दर रचना के लिए बधाई..

    ReplyDelete
  44. बहुत सुन्दर रचना....
    प्रेम पगी....

    ReplyDelete
  45. वाह! कितनी सुन्दर रचना...
    होली की सादर बधाइयां...

    ReplyDelete
  46. Fagun ka rang aur prem payodhi se madmast hoti nayika ki guhaar....behad khoobsoorat aur hriday patal ko chhooti huyi rachna...Amrita aapko Holi ki hardik shubhkamnayein...Kuch paintings v upload kiye hain boltitasveerein par...dekhna na bhooliyega...shayad rang sajja pasand aaye aur holi sachmuch apna rang jama de aap par.

    ReplyDelete
  47. भक्तिभाव से पूरित एक सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  48. waah sunder rango se bhigi manbhavan holi .......happy rangpanchami .....shashi

    ReplyDelete
  49. बहुत मादक अधीर कर देती ,अंग अनंग में मदहोशी लाती फागुनी कविता :)

    ReplyDelete
  50. आपकी मृदुल मधुर प्रेमरस में पगी फागुनी पोस्ट
    पचासा टिप्पणियों के रंग में रंगी तन्मय
    कर रही है,अमृता जी.

    ReplyDelete