Pages

Tuesday, December 27, 2011

मीठा-मीठा

जमाने से जमा
जमाने भर की
शिकवा - शिकायतों को
बड़ी सी गठरी में डाल
जोरदार गाँठ लगा
पीठ पर लादकर
जमाने से जमा
सारी खीज और झल्लाहटों को
पीसकर भांग सा गोली बना
झटके में हलक से उताड़ने पर
धीरे-धीरे चढ़ता है जो सुरूर
फुर्र हो जाता है सारा ग़रूर
अपने ही पिंजरे को तोड़
कोई उड़ जाता है
आसमानी जहाँ में पहुँच
आसमान सा हो जाता है
बादलों पर बैठ कर
हवा संग बलखाता है
कौंधते बिजली को पकड़
चाँद को मुँह चिढ़ाता है
लाख मना के बावजूद
अजीब सा दाढ़ी - मूँछ
उसके मुँह पर बनाता है
ऊँघते हुए सूरज के
सातों घोड़े की पूंछ में
जलता पटाखा बाँध आता है
बिखरे सितारों को भी
एक कतार में खड़ा कर
थोड़ा वर्जिश करवाता है
ओह ! वह चुहलबाज़
दम भर सबके
नाक में दम कर देता है
इसी भागा-दौड़ी में
पीठ पर लदी गठरी भी
कहीं गिर जाती है
सारी खीज और झल्लाहट
मीठी-मीठी शरारत में
बदल जाती है
और जमाने भर से
जमाने भर के लिए
दबा कर रखा हुआ
कुछ मीठा-मीठा सा
उभर आता है .
 
  
  

43 comments:

  1. और तब ,कल्पनाओँ की पोटली खुल कर अक्षर- अक्षर बिखरने लग जाती है!

    ReplyDelete
  2. गठरी गिर ही जाए तो बेहतर ... और ये मिठास कायम रहे ..सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. अपने मन का शरारती चेहरा. खूबी से ब्यान करती कविता.

    ReplyDelete
  4. आप भी न तन्मय होकर क्या क्या लिख देतीं हैं.
    पर जो लिखतीं हैं सुन्दर और सटीक लिखतीं हैं
    जिससे मन तन्मय हो जाता है.

    मेरे ब्लॉग पर आप आईं और सुन्दर सुवचनों
    से आपने मुझे निहाल कर दिया.कैसे शुक्रिया
    कहूँ आपके गूढ गुरू वचनों के लिए.
    नमन आपको,सादर नमन.

    ReplyDelete
  5. ज़माने से जमा ज़मीन मे जाने के समय कोई साथ नहीं ले जाता :)

    ReplyDelete
  6. वाह! सच है जब शिकवे शिकायत भुला दिए जाते हैं तो जीवन में खुशियाँ ही खुशियाँ रह जाती हैं..बहुत सारगर्भित और भावमयी प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  7. वाह ...बहुत ही मधुर शरारती सी रचना ....

    ReplyDelete
  8. शिकवे शिकायतों को इस तरह मीठी मुस्कान में बदलते देखा कि सब कुछ आसमानी लगने लगा ...
    बेहतरीन रचना !

    ReplyDelete
  9. मिठास कायम रहे .... वाह

    ReplyDelete
  10. वाकई अमृता जी ... सारी खीज शरारत में बदल जाती है, बदल गई - बहुत अनुभवी अंदाज

    ReplyDelete
  11. वाह ! बहुत खूब ! सारी शिकायतें बांध कर आप सूरज के घर ही क्यों न छोड़ आयीं बाद में खुलने का डर भी न रहता...

    ReplyDelete
  12. सुभानाल्लाह........काश हम सब भी ज़माने भर की गंदगी (क्रोध, मोह, लालच) की एक गढ़री बाँध कर उन्हें कहीं फेक सकते...........बहुत ही सुन्दर पोस्ट..........हैट्स ऑफ इसके लिए|

    ReplyDelete
  13. बहुत ही मीठा -मीठा लगा सब कुछ ...

    ReplyDelete
  14. mithas to aata hi hai ....bahut sundar rachana Amrita ji .

    ReplyDelete
  15. bahut sunder bhulne mein hi bhalai hai...........

    ReplyDelete
  16. पहली बार आप के ब्लॉग पर आना हुआ,अच्छा लगा आप का ब्लॉग......आप की रचना भी मीठी मीठी लगी.....:)
    उम्दा लिखती है आप .....

    ReplyDelete
  17. गहरी अभिव्‍यक्ति।
    सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  18. अरे वाह! फंतासी की कोई तो पृष्ठभूमि होगी ? :)

    ReplyDelete
  19. रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । नव वर्ष -2012 के लिए हार्दिक शुभकामनाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  20. दबा कर रखा हुआ
    कुछ मीठा-मीठा सा
    उभर आता है
    बहुत सुन्दर रचना

    vikram7: आ,मृग-जल से प्यास बुझा लें.....

    ReplyDelete
  21. खुदा की खुमारी मदमस्त मस्ती
    वही है हृदय मैं यही मेरी हस्ती

    ReplyDelete
  22. andaaz-e-bayan hi kuchh aur hai...

    ReplyDelete
  23. फिक्र का तो जिक्र ही न हो... बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर प्रस्तुती बेहतरीन रचना,.....
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाए..

    नई पोस्ट --"काव्यान्जलि"--"नये साल की खुशी मनाएं"--click करे...

    ReplyDelete
  25. बहोत अच्छी कविता ।

    ReplyDelete
  26. खूबसूरत एहसास .बेहद सुन्दर विस्तार और भाव समेटे रचना,व्यापक फलक पर फैलाती उजास .नव वर्ष मुबारक .

    ReplyDelete
  27. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति |
    नव वर्ष शुभ और मंगलमय हो |
    आशा

    ReplyDelete
  28. कल 31-12-2011को आपकी कोई पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  29. bhaang ki goli banakar nigalne ka khayl achchha hai ...aapke jivan me sadaiv mithas ghuli rahe..shubhkaamnaon kesaath navvarsh mangalmay ho

    ReplyDelete
  30. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति………………आगत विगत का फ़ेर छोडें
    नव वर्ष का स्वागत कर लें
    फिर पुराने ढर्रे पर ज़िन्दगी चल ले
    चलो कुछ देर भरम मे जी लें

    सबको कुछ दुआयें दे दें
    सबकी कुछ दुआयें ले लें
    2011 को विदाई दे दें
    2012 का स्वागत कर लें

    कुछ पल तो वर्तमान मे जी लें
    कुछ रस्म अदायगी हम भी कर लें
    एक शाम 2012 के नाम कर दें
    आओ नववर्ष का स्वागत कर लें

    ReplyDelete
  31. बड़ी मनमोहक रचना है आदरणीया अमृता जी... सादर बधाई और
    नूतन वर्ष की सादर शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  32. अमृता जी, आपसे ब्लॉग जगत में परिचय होना मेरे लिए परम सौभाग्य की बात है.बहुत कुछ सीखा और जाना है आपसे.आपके सुवचन गूढ़ और प्रेरणादायी रहे हैं.इस माने में वर्ष २०११ मेरे लिए बहुत शुभ और अच्छा रहा.

    मैं दुआ और कामना करता हूँ की आनेवाला नववर्ष आपके हमारे जीवन
    में नित खुशहाली और मंगलकारी सन्देश लेकर आये.

    नववर्ष की आपको बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  33. बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍दों का संगम
    नववर्ष की अनंत शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

    ReplyDelete
  34. आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  35. नया साल लो आ गया,गया पुराना साल.
    खुशियों से कर जाए ये,तुमको मालामाल.

    ReplyDelete
  36. वाह वाकई मीठा है ....

    ReplyDelete