Pages

Wednesday, December 21, 2011

झणत्कार


कभी वो करीब से गुजर गया
कभी वह और करीब हो गयी
कभी वो छेड़ गया आहिस्ते से
कभी वह भी चिढ़ा गयी उसे
कभी वो सिहरा गया प्यार से
कभी वह गुदगुदा गयी उसे
कभी वो भर लिया बाँहों में
कभी वह फिसल गयी उससे
कभी वो बना गया उसे नया
कभी वह निखर गयी उससे
कभी वो छलक गया उससे
कभी वह छिप गयी उसी में
कभी वो बह गया उससे
कभी वह समा गयी उसमें
कभी वो रच दिया उसको
कभी वह हवा सी हो गयी
यूँ ही अनवरत चलता रहता है
उनका प्रणय- सृजन और
जन्म लेती हैं कवितायें
मैं तो तन्मय हुई जाती हूँ
शब्द और चेतना के बीच
इस अद्भुत समागम में
और केवल पहनाती रहती हूँ
कविताओं के पाँव में पायल
झनक-मनक करती हुई वह
जिस ह्रदय तक पहुँचती है
अपनी निरी झणत्कार से
क्षण भर के लिए ही सही
उसे झंकृत कर जाती है .


42 comments:

  1. ... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति है ।

    ReplyDelete
  2. पायल की रुनक झुनक ...
    चूड़ी की खनक खनक ...
    मेहँदी सी लाल-लाल...
    मन को मोहती ये ताल ...
    गुनगुनी सी धुप में ...
    कुछ गुनगुना गयी आपकी कविता ....!!
    शब्द और चेतना का ये प्रेम बहुत सुंदर भाव दे रहा है ......अमृता जी ...

    ReplyDelete
  3. हर क्षण बहता कुछ अपनापन।

    ReplyDelete
  4. और केवल पहनाती रहती हूँ
    कविताओं के पाँव में पायल....

    सृजनात्मक लेखन की सार्थकता इसी में होती है. बहुत प्यारी रचना.

    ReplyDelete
  5. ब्रह्मनाद मे अवस्थित हुआ मन सबको झंकृत ही करता है।

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब लिखा है आपने! उम्दा रचना! बधाई!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब..लाज़वाब झंकार कविता की पायल की...बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  8. इस लुका छिपी में जीवन बात जाता है ... प्रणय बड़ता जाता है ... सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  9. कविता के पैरों में पायल....
    बहुत सुन्दर... लाजवाब झंकार...

    ReplyDelete
  10. बहुत खूबसूरत......भावना और कविता का सम्बन्ध सही में बहुत गहरा है.......बहुत सुन्दर पोस्ट|

    ReplyDelete
  11. मन पुलकित हो उठा इस झणत्कार से

    ReplyDelete
  12. वाह...कमाल की नज़्म कही है आपने...बधाई

    नीरज

    ReplyDelete
  13. गहन भावों की हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  14. वाह ...बहुत सुन्दर
    बेहतरीन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  15. कभी कभी की ये तन्मयता बेहद खूब सूरत लगी

    ReplyDelete
  16. मन को गुदगुदाने वाली सुंदर रचना,....क्भी२ मेरे दिल में ख्याल आता है ................,बेहतरीन पोस्ट ...

    मेरी नई पोस्ट के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    ReplyDelete
  17. भावातीत उदात्त ....बेखुद सी करती अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  18. ji han is pyal ki jhankar ne chahe kshan bhar ko hi sahi hame bhi jhankrit kar diya.

    ReplyDelete
  19. सुंदर प्रस्‍तुतिकरण।
    बढिया रचना।

    ReplyDelete
  20. तन्मयता भरे भाव....बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  21. क्या लुत्फ़ आ रहा था दिलबर की दिल्लगी में
    नज़रें भी थी हमीं पर पर्दा भी था हमीं से :)

    ReplyDelete
  22. मिलने , बिछड़ने , रूठने ,मनाने के इन पलों में कविताओं का जन्म लेना ...
    मद्धम फुहार सी अनुभूति !

    ReplyDelete
  23. कविता का सुन्दर श्रृंगार, कविता का यह सच्चा प्यार।
    झन-झन पायल का झंकार, निकले कविता दिल के द्वार।।

    ReplyDelete
  24. मनोभावों का खूबसूरत सम्प्रेषण.

    ReplyDelete
  25. वाह ! क्या कहने इस शब्द और चेतना के इश्क के जिसमें भीग जाती हैं आप और भिगो देती हैं पाठकों को...

    ReplyDelete
  26. सुन्दर रचना.....

    ReplyDelete
  27. श्रृंगार भाव का सुन्दर प्रस्तुतिकरण

    ReplyDelete
  28. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  29. कल 24/12/2011को आपकी कोई पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  30. आपकी प्रेरणा और आपको भी धन्यवाद इस रचना के लिए !!

    ReplyDelete
  31. aapki rachaanaon me anokhi tajgi hai..kshan bhar ke nahi sadiyon tak jhankar paida karne ke kabliyat hai....chemistry ka practical yaad aa gaya....identification of acid and basic radicals...parinaam likhe hai prayog karte jaao aaur dekhte jaao...observation yahi milegi ..inference me kahna padega.pyar ke aasar..aaur confirmation me..pyaar ho gaya...behtari..mere blog par aapka swagat hai..sadar badhayee ke sath

    ReplyDelete
  32. यह सृजन शृंखला बढती रहे
    भावों के पर्वत गढती रहे ...
    सादर.

    ReplyDelete
  33. आप तन्मय हैं.
    तन्मय कर देती हैं.

    पर मेरे ब्लॉग को 'तन्मयता'
    में क्यूँ विस्मृत कर रहीं हैं,अमृता जी.

    वीर हनुमान का बुलावा है आपको.

    आपकी इस पोस्ट पर कुछ देरी से आने का
    कारण लैपटॉप और नेट की समस्या रही.
    क्षमाप्रार्थी हूँ.

    आने वाले नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ आपको.

    ReplyDelete
  34. jiska dar tha bedardi wahi baat ho gayi.. adbhut.. nihshabd....

    ReplyDelete
  35. ...और जन्म लेती हैं कवितायें

    ReplyDelete