Pages

Monday, December 5, 2011

मेरी मटकी

मैं चतुरी
एक मेरी मटकी
उस मटकी में
भर कर
अपने संसार को
सिर पर रख
चला करती हूँ
मटक मटक कर
अपनी ही राह पर.....
आँखों में बनते
मन में बसते संसार को
उसी मटकी में
भरती जाती हूँ...
अपने संसार में
ऐसे मगन होती हूँ कि
उड़-उड़ कर
छूने लगती हूँ
अपने गगन को...
अचानक से
टकराती भी हूँ
किसी संदिग्ध
संक्रमित संसार से
गिरती हूँ औंधे मूँह
टूट जाती है
मेरी मटकी
और बिखर जाता है
मेरा संसार भी....
मूढ़ता या बुद्धिमत्ता में
मैं चपला
उसी क्षण
अपनी मटकी में
एक और संसार भरती हूँ
फिर सिर पर रख
फिर उसी राह पर
चलने लगती हूँ
मटक मटक कर .

 

48 comments:

  1. विलक्षण ...सुलक्षणा ...चतुर नार की मन मोहक कहानी ...
    गागर में भरे नीर और आँखों में पानी ...!!
    बहुत ही सुंदर भाव पिरोये हैं ....अद्भुत...!!

    ReplyDelete
  2. चतुराई इसी में है की जीवन भर संसार को भरते रहें अपनी मटकी में .. सुन्दर रचना .

    ReplyDelete
  3. ye hi jeevan or is sansar ka niyaam hai

    bahut khub

    ReplyDelete
  4. सब चल रहे हैं अपनी मटकी सम्हाले, धीरे धीरे।

    ReplyDelete
  5. अपनी मटकी में

    एक और संसार भरती हूं

    बहुत बढि़या ... बेहतरीन भाव संयोजन ।

    ReplyDelete
  6. वाह! बहुत खूबसूरत....
    सादर...

    ReplyDelete
  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! अधिक से अधिक पाठक आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो
    चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  8. मटकी का प्रयोग अच्छा लगा ! सबने अपने अपने सर पर अपने संसार की मटकी पहन रखी है और अपनी धुन में मगन हैं !
    सुन्दर अभिव्यक्ति !
    आभार !

    ReplyDelete
  9. बहुत ही खूबसूरत एहसास !

    ReplyDelete
  10. भावपूर्ण रचना |बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||
    बधाई ||

    ReplyDelete
  12. अब पनघट के दिन तो रहे नहीं, चलो संसार भर कर ही चलें :)

    ReplyDelete
  13. Amrita,

    4 KAVITAAYAN PARHI. YEH WALI MUJHE SABSE ACHCHHI LAGI.

    Take care

    ReplyDelete
  14. बहुत गूढ़ मटकी, बहुत ही प्यारी चाल -

    ReplyDelete
  15. सर पर मटकी, मटकी में संसार , संसार में हम सब और सब के सर पर मटकी.. जीवन की अनसुलझी गुथियों को सरलता से समझाया आपने.

    सुन्दर रचना.
    WWW.BELOVEDLIFE-SANTOSH.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  16. वाह... यही तो जिजीविषा है

    ReplyDelete
  17. विशाल जी ने मेल से कहा --

    आदरणीया अमृता जी,
    आपकी रचनायों में विलक्षणता है.
    कितनी भी कोशिश की जाए ,इन्हें पढ़े बिना रहा नहीं जा सकता.
    इस रचना की शुरुआत ही कितना कुछ कह रही है


    मैं चतुरी
    एक मेरी मटकी


    और अंत का द्वंद्व हम सभी को आईना दिखला जाता है.
    बस लिखते जाएँ,शिखर छोटे पड़ते जायेंगे.

    ReplyDelete
  18. bahut achche bhaav ek baar giri to kya honsla buland ho to baar baar naya sansaar sambhaal kar chalenge.bahut achcha likha hai.

    ReplyDelete
  19. सुन्दर शब्दावली,सुन्दर अभिव्यक्ति.भावपूर्ण कविता के लिए आभार.....

    ReplyDelete
  20. अत्यंत उत्क्रिस्ट रचना बेहद भावपूर्ण और मटकी में भरा संसार का सपना अपना होने जैसा बरबस यद् दिला जाता है उन गोपिकाओं का जो माखन भरी मटुकी लिए उस परम अनुराग में मतवाली सी चली जा रही हैं कृष्ण में बिभोर और क्रिशन तोड़ते रहते हैं मटकी और माखन रूपी संसार के आकर्षण को और भर देते है परम दिब्य प्रेम से से गोपिकाए हो जाती हैं बिभोर .
    यह संसार की ठोकर ही तो यद् दिलाती है उस और कालने की.
    लिख सकने के लिए शब्द भी मौन हो चुके है

    ReplyDelete
  21. 'अपना संसार' .... 'अपने गगन'... संसार और गगन के साथ ये 'अपना' लिखना कितने सुन्दर विम्ब का सृजन कर रहा है...
    The sense of belonging well underlined!
    best wishes!

    ReplyDelete
  22. सुभानाल्लाह..........बहुत ही खूबसूरत......आपकी मटकी सदा सलामत रहे और उसमे परम प्रकाश भरा रहे :-)

    ReplyDelete
  23. अरे अमृता तुमने तो गागर में सागर वाली कहावत चरितार्थ कर दी. बधाई इस सुंदर प्रस्तुति के लिए.

    ReplyDelete
  24. शानदार बिम्ब प्रयोग ………एक अलग ही नज़रिया और उसके माध्यम से गहरी बात कह दी।

    ReplyDelete
  25. मटकी का बिम्ब और जीवन. नया प्रयोग अच्छा लगा. बधाई

    ReplyDelete
  26. bahut acchha likh leti hain aap. sunder shabd diye hain bhaavon ki kashmkash ko.

    ReplyDelete
  27. सुंदर प्रस्तुति के लिए बधाई..

    ReplyDelete
  28. मटकी का बहुत अच्छा पयोग बहुत अच्छा लगा,...बधाई
    मेरे नए पोस्ट पर इंतजार है,...

    ReplyDelete
  29. मजेदार ,मटक मटक मटकी लिए नायिका की छवि -क्या कहने !
    जीवन ऐसी ही उत्फुल्लता और अपराजेयता का पर्याय है ...
    क्या कहने, कहीं मटरगश्ती तो कहीं मटकी चपलता ....
    आनंदित हुए .....

    ReplyDelete
  30. वाह, क्या कहना इस नए अंदाज़ का. चतुरी का कार्य ही है मटकी में संसार भरना, संसार का सौदा करना और चलते रहना. गतिशील बिंब कविता को चलाए चलते हैं. बहुत खूब अमृता जी.

    ReplyDelete
  31. वाह ! आज की कविता पढ़कर तो मटक मटक कर चलती गोपिका सम्मुख आ गयी...कहीं कृष्ण ने ही तो नहीं फोड़ी आपकी मटकी...

    ReplyDelete
  32. sundar abhivyakti.....!!
    ek differnet nazariya khud ke baare mein...!!

    ReplyDelete
  33. bahut sundar...nari man ka sajeev chitran..bhavpoorna rachna ke liye badhai..

    ReplyDelete
  34. बहुत सुंदर ...बहुत सुंदर रचना !
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  35. ये क्या कह रहीं हैं अमृता जी आप
    मटक मटक कर मटकी चटका रहीं हैं.
    वाह री चतुरी तेरी मटकी.
    ऐसा लिखा कि नजर मेरी अटकी.

    ReplyDelete
  36. Wah!!! Wah!!!

    kya vichar hai...Bahut hi sundar....

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  37. उसी क्षण
    अपनी मटकी में
    एक और संसार भरती हूँ
    फिर सिर पर रख
    फिर उसी राह पर
    चलने लगती हूँ
    मटक मटक कर .......
    ....
    अमृता जी जब तक ये चलना है तब तक ये मटकी भी है ही ...अच्छा है कि ये भरी ही रहे !

    ReplyDelete
  38. मटकी साथ रहेगी -उसमें भरे जाने वाले संसार बदलते रहेंगे .

    ReplyDelete
  39. क्या कहूँ ..इतना सुन्दर कि प्रसंशा के सब्द नहीं मिल रहे

    ReplyDelete
  40. मेरी मटकी..
    वाह! बेहतरीन कविता है।

    ReplyDelete