Pages

Friday, December 2, 2011

आयोजन

मैंने लिखना चाहा
केवल एक गीत
तुम्हारे लिए...
हर बार
सबकुछ हार कर
वही एक गीत लिखती हूँ
पर तुम्हारा रूप
और विस्तार पा जाता है
जो मेरे गीतों में
नहीं समा पाता है...
हर बार
मेरा गीत हार जाता है....
मैं फिर लिखती हूँ
नए गीतों को
जिसमें तुम्हें
पिरो देना चाहती हूँ..
लेकिन कुछ
शेष रह जाता है
जिसे मेरा गीत
नहीं अटा पाता है....
जो शेष रह जाता है
वही मुझसे
बार-बार
नये गीत लिखवाता है
मुझे स्तब्ध कर
फिर से
वही शेष रह जाता है ....
तुम्हारे लिए
मैंने लिखना चाहा था
केवल एक गीत
पर यूँ ही
मेरा सारा आयोजन 
धरा का धरा रह जाता है .

51 comments:

  1. पर मेरे पास सात सुर हैं , ... तुममें ढलते ढलते कई गीत बन गए , तो निश्चय ही एक दिन तुम्हें गीत बना लूँगी

    ReplyDelete
  2. पर यूं ही

    मेरा सारा आयोजन

    धरा का धरा रह जाता है ..

    बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  3. ह्रदय के प्रेमपूर्ण भावों की अप्रतिम प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  4. अद्भुत सुन्दर कविता लिखा है आपने! बेहतरीन प्रस्तुती!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! चर्चा में शामिल होकर चर्चा मंच को समृध्‍द बनाएं....

    ReplyDelete
  6. Wah....bahut sundar

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  7. उसकी अशेष व्यापकता ही सृजन का आधार है... सुन्दर रचना आदरणीया अमृता जी...
    सादर...

    ReplyDelete
  8. मैंने लिखना चाहा था,
    केवल एक गीत,
    पर यूँ ही,.....प्रेमभाव की सुंदर प्रस्तुति!!!!!!!
    मेरे नये पोस्ट में आपका स्वागत है,....

    ReplyDelete
  9. अपने ईष्ट के प्रति प्रेम प्रदर्शित करती हुई मनमोहक कविता.
    बहुत सुन्दर लिखा आपने!!

    ReplyDelete
  10. कुछ न कुछ तो शेष रहेगा,
    कह दे, तब न क्लेष रहेगा।

    ReplyDelete
  11. बहुत ही खुबसूरत और कोमल भावो की अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  12. बढ़िया प्रस्तुति ||

    बधाई ||

    ReplyDelete
  13. कविता की अनवरत कहानी ...कह दी ..

    ReplyDelete
  14. अमृता जी बहुत खूबसूरत रचना ..इसे पूरा करने के प्रयास मे गीत लिखती रहेगी तो बहुत सारे गीत बन जायेंगे तो कुछ न कुछ
    शेष रहने में भी लाभ ही है जरुरी नहीं कि एक ही गीत हो

    ReplyDelete
  15. ये शेष ही तो नव सृजन को प्रेरित करता है।

    ReplyDelete
  16. कल शनिवार ... 03/12/2011को आपकी कोई पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  17. हर बार कुछ शेष रह जाए तभी तो संभावनाएं बनी रहेंगी...!
    पूर्णता प्राप्त हो जाए फिर तो पूर्णविराम लग जाएगा न:)
    सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  18. वाह, क्या बात है
    बहुत सुंदर कविता

    ReplyDelete
  19. sundar harday ke bhaavon se paripoorn rachna.

    ReplyDelete
  20. शेष न रहे तो नव सृजन कैसे हो .... बहुत अच्छ प्रस्तुति

    ReplyDelete
  21. यही शेष सृजन कर्ता है हर एक नए गीत का... बहुत ही सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  22. अमृता

    जो शेष है वही प्रेम है .और ये प्रेम हमेशा ही रहेंगा .और क्या लिखो ,समझ नहीं आ रहा है ...

    बधाई !!
    आभार
    विजय
    -----------
    कृपया मेरी नयी कविता " कल,आज और कल " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/11/blog-post_30.html

    ReplyDelete
  23. वह अनंत है तो जब तक अनंत गीत न लिखे गए वह चुक नहीं सकता...तभी तो कबीर कहते है...सागर की स्याही हो और धरती के सारे जंगलों के वृक्षों की कलम..तब भी उसका बखान नहीं किया जा सकता...

    ReplyDelete
  24. NARI HAR BAR EK HI GIT LIKHATI HAI

    ReplyDelete
  25. वाह...बेजोड़ भावाभिव्यक्ति...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  26. फिर से हमेशा की तरह बेहतरीन लिखा है... !

    ReplyDelete
  27. गीतों का जन्म यूँ ही नहीं होता , सुंदर रचना आभार

    ReplyDelete
  28. सारा आयोजन धरा रह जाता है...वाकई प्रेम इतना विराट तो है ही...

    ReplyDelete
  29. एक हृदयस्पर्शी रचना जो बिहारी के एक दोहे की याद दिला गयी ...

    लिखन बैठि जाकी सबिह, गहि-गहि गरब गरूर।
    भये न केते जगत के, चतुर चितेरे कूर॥*
    बिहारी नायिका के सौन्दर्य-चित्रण के लिए बड़े-बड़े और गर्वीले कलाकारों को बुलाया गया, किन्तु क्षण-क्षण परिवर्तित होते हुए उसके रूप को कोई भी चित्रकार-चित्रत नहीं कर सका। सारे कलाकार विफल होकर लौट गए।

    वह धन्य है जो आपकी कृपा का पात्र बना है ....और धन्य आप भी कि अनवरत प्रयास में लगी हैं !

    ReplyDelete
  30. यह जो कुछ शेष है वही तो सृजन की प्रेरणा है...बेहतरीन अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  31. बहुत सुंदर भाव .

    ReplyDelete
  32. क्या बात है । आपेक पोस्ट ने बहुत ही भाव विभोर कर दिया । मेरे नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है ।

    ReplyDelete
  33. प्रेम का चरमोत्कर्ष. खूबसूरत अदाज़.

    ReplyDelete
  34. लाली देखन मैं गई, मैं भी हो गई लाल!!!!!

    ReplyDelete
  35. जिस अनंत शक्ति के सम्मान में आप लिखती है वो लेखन तो इसी अनंत धारा के रूप में बहता रहेगा ....शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  36. वही मुझसे बार बार
    नये गीत लिखवाता है ...

    वाह!

    ReplyDelete
  37. विचार-घट कभी रीता नहीं होना चाहिए।
    सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  38. जैसे जैसे प्रेम बड़ता जाता है ... शब्द कम होते जाते हैं ...
    रचना में वो व्यक्तित्व समा नहीं पाता हर बार ...

    ReplyDelete
  39. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति । मेर नए पोस्ट पर आकर मेरा मनोबल बढ़एं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  40. prem rupi gahare pani ko vani dena wakai bahut mushkil kam hai..
    khubsurat andaz..

    ReplyDelete
  41. जो शेष रहता है वही तो गीतों में नज़र आता है. खूबसूरत रचना.

    ReplyDelete
  42. इश्क मजाज़ी से इश्क हक़ीकी तक ले कर ले जाती हुई बहुत ही खूबसूरत रचना.


    यहाँ तो ये हाल है

    एक हर्फ़ भी तेरे नाम लिखूं
    तो भी बचता नहीं कुछ शेष,
    खाली जो वर्क रखूँ तेरे नाम
    तो भी हो जाता है विशेष.

    ReplyDelete
  43. बहुत सुन्दर .. शेष जो बहुत विशेष है.. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  44. सुभानाल्लाह........प्रेम का प्याला कभी नहीं भरता.......छलक छलक जाता है..........बहुत खुबसूरत पोस्ट.......एक और हैट्स ऑफ |

    ReplyDelete
  45. जो अव्यक्त और अतृप्त रह जाता है वही सृजन कराता है. बहुत सुंदर अनुभूति और उसकी अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  46. आपके गीत में वह अमृत प्रीत कि
    आप तो आयोजन पर आयोजन किये जा रही हैं.
    और तन्मय हुईं है इतना कि आपको भान ही नही.

    ReplyDelete
  47. सबकुछ हार कर
    वही एक गीत लिखती हूँ.....

    ReplyDelete