Pages

Saturday, November 5, 2011

बातें हैं ...

बातें हैं , बातों का क्या
हवा सी डोलती - फिरती
आड़ी - तिरछी दिशाओं में
उल्टा - सीधा कोण बनाती हुई
ज्यामितीय परिभाषाओं को
तोड़ती-मरोड़ती, बनाती-बिगाड़ती
छूना चाहूँ तो अपने ही केंद्र में
चुपचाप सी दुबकती बातें
पकड़ना चाहूँ तो परिधि पर
घुमती- घामती , नाचती- भागती
मुझे ही लट्टू बनाती बातें
बलात कोई चक्रवात
खींच ले मुझे अपने पाताल में
और उसके परतों का करना पड़े
अध्ययन दर अध्ययन .. ओह !
बातें हैं , बातों का क्या
बादलों की तरह
सर्द होऊं कि बरस जाती है
इतना कि डूबती-उतराती रहूँ और
बनाती रहूँ डोंगी ,नैया ,जहाज
या फिर उसे उलीचती रहूँ
डूबी रहती हूँ पूरी तरह
बातें हैं , बातों का क्या
अटक कर , कुरेदती हुई
बना देती है रिसता घाव
उसे छलनी में डालूँ भी तो
छलनी सी हो जाती है
बात पर जो आऊँ तो
उड़ा देती है अपनी बातों में
बिखरी पड़ी है बरकती बातें
ये भोथरी- बरछी सी बातें
खुलती- गाँठ सी बंध जाती बातें
बातें हैं , बातों का क्या
कितना भी पलट दूँ
फिर भी निकलती हैं बातें .
 

  

59 comments:

  1. बातें हैं बातों का क्या....फिर भी आपकी यह बातें बहुत अच्छी लगीं। :)


    सादर

    ReplyDelete
  2. Baat sirf yahi hai ki---

    Waah..! kya baat hai...

    Natkhat Baaton Ko Bahut Acchi Tarah Paribhashit Kiya Hai Aapne... Regards..

    ReplyDelete
  3. ..बहुत मर्मस्पर्शी अहसास और उनकी प्रभावी अभिव्यक्ति अमृता जी ..आभार

    ReplyDelete
  4. Bahutkhoob...Baatein !!!

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  5. आपकी 'बातें है, बातों का क्या'

    भी खूब अनबुझ पहेली है.क्यूंकि

    'कितना भी पलट दूं
    फिर भी निकलती हैं बातें'

    ReplyDelete
  6. सुन्दर अति सुन्दर सटीक अभिव्यक्ति.........

    ReplyDelete
  7. बातों से निकलती हैं बातें
    बातों ही बातों कट गई रातें

    ReplyDelete
  8. वाह अमृता जी,
    बिल्कुल अलग अंदाज़ में उम्दा रचना

    ReplyDelete
  9. गाँठें उलझाती हैं बातों को, बातें स्वयं सुलझने में सक्षम हैं।

    ReplyDelete
  10. बातें ही हैं जो बहुत कुछ कह देती हैं ... बात निकलेगी तो दूर तलक जायेगी

    ReplyDelete
  11. जबर्दस्त बातें -कौन सी बातें तनिक हम भी तो सुने जानें :)

    ReplyDelete
  12. बात निकलती है तो सिलाई की तरह उधेड़ती ही जाती है...

    ReplyDelete
  13. बात फिर बात है, बोलेगी खुद ही.

    ReplyDelete
  14. बातें अच्छी कर ली आपने तो इस कविता के माध्यम से ॥

    ReplyDelete
  15. अटक कर कुरेदती हुयी
    बना देती हैं रिश्ता घाव ...
    गजब की पंक्तियाँ और विचारणीय भाव ....सुन्दर गहन अभिव्यक्ति लिए रचना
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  16. बातों का कहाँ अंत है...बहुत सटीक और सुंदर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  17. बातें है बातों का क्या...
    बहुत सुन्दर लिखा है आपने.

    बना देती है रिसता घाव
    अर्थपूर्ण .....

    ReplyDelete
  18. जब बात निकल ही गयी है...तो अब ये दूर तलक जाएगी...

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर रचना |

    ReplyDelete
  20. बातों ही बातों में गहरी बातें कर दीं आपने।
    सुंदर...
    बेहतरीन....
    आभार...........

    ReplyDelete
  21. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 07-11-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  22. ये भोथरी- बरछी सी बातें
    खुलती- गाँठ सी बंध जाती बातें
    बातें हैं , बातों का क्या
    कितना भी पलट दूँ
    फिर भी निकलती हैं बातें .

    बातों-बातों में आपने बहुत गहरी बात कह दी, लाजवाब !

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ.....

    ReplyDelete
  24. बहुत ही गहरी बात कह दी आपने.....

    ReplyDelete
  25. nikli hai aaj jo baat ye dur talak jayegi,
    chalegi jab aapki baat to yaaden bhi aayengi....

    bahut hi badhiya rachna..
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  26. सारा खेल इन बातों में ही तो समाया है .......

    ReplyDelete
  27. बातों से निकलती हैं बातें
    बातों ही बातों कट गई रातें
    भाव-प्रवण कविता अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर रचना... अलग अंदाज़...
    सादर बधाई....

    ReplyDelete
  29. बातों-बातों में इतनी गहरी बातें... लाजवाब रचना

    ReplyDelete
  30. बातों-बातों में उलझती-सुलझती....सुनती -सुनाती ....रूठती-मानती ...लच्छेदार-गुच्छेदार ...उम्दा बातें.....
    बहुत सुंदर घुमावदार रचना ....!!!

    ReplyDelete
  31. बातें तो निकलती ही रहती हैं...
    खूब लिखी है बातों की बात!

    ReplyDelete
  32. गहरी बात ....जीवन कभी सुलझाती कभी उलझाती बातें ....

    ReplyDelete
  33. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! बधाई!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  34. बातें ही तो हैं जो बना देती हैं ना जाने कितनीबातें…………सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  35. just one word awasome .............bahut pasand aayi aapki ye kavita

    ReplyDelete
  36. बहुत अच्छे भावों को शब्दबद्ध किया है आपने !

    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है कृपया अपने महत्त्वपूर्ण विचारों से अवगत कराएँ ।
    http://poetry-kavita.blogspot.com/2011/11/blog-post_06.html

    ReplyDelete
  37. Amrita,

    PHIR DER HUYI PER SAB KAVITAYEN PARHI. BLOG JAGAT BILKUL SAHI KAHAA AAPNE. TANMAY BAHUT ACHCHHI LAGI. BAATEIN TO BAATEIN HI HAIN AUR SAB KUCHH PALAT PHER KAR DETI HAIN MAGAR.

    Take care

    ReplyDelete
  38. बहुत अच्छी रचना...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  39. एक सराहनीय सृजन सम्मान योग्य सृजन , शुक्रिया जी

    ReplyDelete
  40. ये बातें...

    बहुत ही सुंदर भावमयी रचना.

    ReplyDelete
  41. बहुत खूब आप मेरी रचना भी देखे ...........

    ReplyDelete
  42. बातों ही बातों में, बातों का मर्म समझा दिया आपने।

    ReplyDelete
  43. बातें निकलती हैं तो दूर तलक जाती हैं ...
    पर बातें तो हैं सिर्फ बातें , बातों का क्या ...
    सच कहा आपने !

    ReplyDelete
  44. बातें जीवन का सच है..दर्पण हैं.

    सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  45. अमृता जी बाते है..बहुत सुन्दर रचना बधाई...
    मेरे पोस्ट में आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  46. बाते हैं बातों का क्या ..............बहुत सुन्दर, शानदार और बेहतरीन पोस्ट........हैट्स ऑफ इसके लिए|

    ReplyDelete
  47. वाह! बातों पर आपने कितनी बातें कह डालीं...फिर भी आपके भीतर हैं अब भी हजार बातें...

    ReplyDelete
  48. बातें....बातें....और सिर्फ बातें....!!
    और न जाने कितनी बातें.....!!

    ReplyDelete
  49. बातों से हि हर चीज कि शुरुआत होती है|

    बहुत हि बेहतरीन रचना|

    ReplyDelete
  50. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.com/

    ReplyDelete
  51. badi sundar batein hai.pyari rachna...

    ReplyDelete
  52. बातें हैं, बातों का क्या :) :)

    अवसम :)

    ReplyDelete
  53. waah...bat ki baat men baat kahan tak aa pahunchi..bahut sarthak baaten..

    ReplyDelete
  54. मुझे प्रतापनारायण मिश्रा की "बातें " आलेख याद आया . अब बात चल पड़ी है तो दूर तलक जाएगी .

    ReplyDelete