Pages

Friday, August 19, 2011

अंधेरनगरी में....

अंधेरनगरी में भी
चलता है अंधेरखाता
अक्ल पर पड़े पहाड़ को
क्यूँ है उठाता
ये उल्टी गंगा
कौन है बहाता
खरी - खरी
किसको है सुनाता ?

अंधेरनगरी के
कानों में
तेल और घी भरा है
जूं - चीलड़ तक
नहीं रेंग रहा है
नाक तो कटी हुई है
पगड़ी भी उतरी हुई है .

अंधेरनगरी का कानून
अँधा बनकर अँधा बनाना
अंटी मारना , अंगूठा दिखाना
जूते चाटना , गाल बजाना
चूड़ियाँ पहनना , मक्खियाँ मारना .

अंधेरनगरी का है काम
सीधा उल्लू को सीधा करना
पकी खिचड़ी फिर-फिर पकाना
घोड़े बेच-बेच कर सोना
और कुत्ते की मौत मर जाना .

अंधेरनगरी में
नहीं निकलते चींटियों के पर
फटा करता है यूँ ही छप्पड़
एक ही लाठी से सभी हँकाते
अपने मुँह मियाँ मिट्ठू बन जाते .

अंधेरनगरी है अपनी नगरी
छलकत जाए अधजल गगरी .


( मुहावरा का खेल )



क्षणिकाएँ

अपराध-बोध

अब तो हर वक़्त
अपराध-बोध होता है
हक़ की बात करूँ तो
संविधान का
पन्ना खुल जाता है.

बुनियाद

यह ऊँचे आदर्शों का
है तिलस्मी महल या
रंग-रोगन किया हुआ
है कोई भरभराता खँडहर
बुनियाद की न लें खबर
वर्ना फ़ैल जायेगा जहर.

बहुमत

दबंग पहलू से दबका पहलू
है अंगूठा दिखा रहा
माना कि तू बहुमत में है
पर मैंने तेरा चूल हिला दिया.

45 comments:

  1. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..सार्थक क्षणिकाएं...

    ReplyDelete
  2. नए रंगरूप की सशक्त बिंबों वाली कविता और सामयिक क्षणिकाएँ बहुत बढ़िया बन पड़ी है.

    ReplyDelete
  3. एकदम नयी शैली में मुहावरों का उपयोग किया आपने....
    और क्षणिकाएं.... वाह अद्भुत कथ्य हैं....
    सादर बधाई....

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर और सटीक..मुहावरों का सटीक और सशक्त प्रयोग...क्षणिकाओं का तो कोई ज़वाब नहीं. लाज़वाब

    ReplyDelete
  5. Ye apka naya roop hame acha laga,
    ek alag andaaj me apka likna acha laga.
    Log rach to dete hain naye andajon me purane geet,
    par aapka hakikat byan karta ye kissa acha laga.

    Mam is shyri ko galat mat samajhyiyega mene roop ke baare me likha hai wo sirf ye shayri ko banane ke liye likha hai........

    Jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  6. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार क्षणिकाएं ! बेहतरीन प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन रचनायें...

    ReplyDelete
  8. अब क्या कहूँ बहुत सारे बिम्बों का प्रयोग करते हुए आपकी यह रचनाएँ सशक्त भावों का सम्प्रेषण करती हैं .....!

    ReplyDelete
  9. मुहावरों का प्रयोग नवीन और सार्थक लगा और क्षणिकाएं भी लाजवाब हैं

    ReplyDelete
  10. वाह.......क्या बात है अमृता जी.........बड़ा आक्रोश दबा दिखा है आज की पोस्ट में.........कविता के साथ क्षणिकाएं और भी चार चाँद लगा रही हैं (मुहावरे की भाषा में :-) )

    ReplyDelete
  11. bahut badiya muhavaredaar bhasha ka prayog kar vywastha par sateek prahar karti rachna prastuti ke liye dhanyavaad..

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब ...
    हार्दिक शुभकामनायें आपके लिए !

    ReplyDelete
  13. सब की सब रचनाएँ एक से बढ़ कर एक हैं,आनंद आ गया,आभार.

    ReplyDelete
  14. अंधेरनगरी का काम है
    सीधा उल्लू को सीधा करना
    पकी खिचड़ी फिर-फिर पकाना

    हक़ की बात करूं
    तो संविधान का पन्ना खुल जाता है

    भारतीय राजनैतिक-सामाजिक
    विडम्बनाओं का सटीक चित्रण.. आभार..

    ReplyDelete
  15. ख़ूबसूरत प्रतीकों से सजी सुंदर कविताएं।

    ReplyDelete
  16. सार्थक और सटीक प्रस्तुति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  17. मुहावरों का सटीक प्रयोग कविता के अलंकरण जैसा हो गया है . अन्धेरपुर नगरी में टका सेर भाजी टका सेर खाजा भी तो मिलता है . क्षणिकाएं दीर्घ प्रभावकारी है . आभार .

    ReplyDelete
  18. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ..........

    ReplyDelete
  19. अंधेरनगर म भी चलता है अंधेरखाता
    हक़ क बात कँ तो संवधान का पना खुल जाता
    in dono lines ko ek sath padne ka man ho aaya.
    Badhai.

    ReplyDelete
  20. आपको एवं आपके परिवार को जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  21. आपको एवं आपके परिवार "सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया"की तरफ से भारत के सबसे बड़े गौरक्षक भगवान श्री कृष्ण के जनमाष्टमी के पावन अवसर पर बहुत बहुत बधाई स्वीकार करें लेकिन इसके साथ ही आज प्रण करें कि गौ माता की रक्षा करेएंगे और गौ माता की ह्त्या का विरोध करेएंगे!

    मेरा उदेसीय सिर्फ इतना है की

    गौ माता की ह्त्या बंद हो और कुछ नहीं !

    आपके सहयोग एवं स्नेह का सदैव आभरी हूँ

    आपका सवाई सिंह राजपुरोहित

    सबकी मनोकामना पूर्ण हो .. जन्माष्टमी की आपको भी बहुत बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
  22. बस अंधेर नगरी चौपट राजा ...क्षणिकाएं भी सटीक हैं !

    ReplyDelete
  23. रमादान (रमजान ,रमझान )मुबारक ,क्रष्ण जन्म मुबारक .
    अंधेर नगरी चौपट राजा ,टके सेर भाजी ,टके सेर खाजा .अभिव्यक्ति को पंख लग गएँ हैं आपकी ,नै परवाज़ ,ऊंची उड़ान भर्ती विचार कणिकाएं ,बेहद खूबसूरत एहसासात की लम्बी रचना विचार को थामे थामे आगे बढती है .बधाई ..
    जय अन्ना ,जय भारत . . रविवार, २१ अगस्त २०११
    गाली गुफ्तार में सिद्धस्त तोते .......
    http://veerubhai1947.blogspot.com/2011/08/blog-post_7845.html

    Saturday, August 20, 2011
    प्रधान मंत्री जी कह रहें हैं .....
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    गर्भावस्था और धुम्रपान! (Smoking in pregnancy linked to serious birth defects)
    http://sb.samwaad.com/

    रविवार, २१ अगस्त २०११
    सरकारी "हाथ "डिसपोज़ेबिल दस्ताना ".

    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    ReplyDelete
  24. जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  25. कमाल की अभिव्यक्ति है आपकी.
    सार्थक और सटीक.
    देरी से आने के लिए क्षमा चाहता हूँ.

    श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पावन पर्व की हार्दिक
    शुभकामनाएँ.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,
    अपने सुविचारों से अनुग्रहित कीजियेगा.

    ReplyDelete
  26. रमादान (रमजान ,रमझान )मुबारक ,क्रष्ण जन्म मुबारक .अंधेरनगरी का काम है
    सीधा उल्लू को सीधा करना
    पकी खिचड़ी फिर-फिर पकाना

    हक़ की बात करूं
    तो संविधान का पन्ना खुल जाता है......इसी संविधान की आड़ में फिर छिप जाना ,मौक़ा बे मौक़ा इसकी चिन्दियाँ उड़ा देना ,इसे ताक पर रख अमरीकी एटम का मुकुट पहन लेना , ,गला घोंट कर इसी संविधान का लिफ्ट में से साधू प्रवृत्ति के लोगों को उठाकर तिहाड़ के हवाले करदेना ............बहुत सशक्त अभिव्यक्ति है आपकी अमृता जी ,.......
    जय अन्ना ,जय भारत . . रविवार, २१ अगस्त २०११
    गाली गुफ्तार में सिद्धस्त तोते .......
    http://veerubhai1947.blogspot.com/2011/08/blog-post_7845.html

    Saturday, August 20, 2011
    प्रधान मंत्री जी कह रहें हैं .....
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    गर्भावस्था और धुम्रपान! (Smoking in pregnancy linked to serious birth defects)
    http://sb.samwaad.com/

    रविवार, २१ अगस्त २०११
    सरकारी "हाथ "डिसपोज़ेबिल दस्ताना ".

    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    ReplyDelete
  27. सुन्दर अभिव्यक्ति.शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  28. जरा एक और मुद्दे पर पढ़ें और कृपया अपनी राय अवश्य दें. सचिन को भारत रत्न क्यों?
    http://sachin-why-bharat-ratna.blogspot.com

    ReplyDelete
  29. कल 24/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  30. बेहतरीन कविताएँ अमृता जी बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  31. wah ...muhavaron ka prayog badhia laga ....
    sunder aur damdar abhivyakti.

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर ,अंदाज काफी पसंद आया ...

    ReplyDelete
  33. मेरे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.
    यदि मीडिया और ब्लॉग जगत में अन्ना हजारे के समाचारों की एकरसता से ऊब गए हों तो मन को झकझोरने वाले मौलिक, विचारोत्तेजक विचार हेतु पढ़ें
    अन्ना हजारे के बहाने ...... आत्म मंथन http://sachin-why-bharat-ratna.blogspot.com/2011/08/blog-post_24.html

    ReplyDelete
  34. बहुत सुन्दर रचना , सार्थक सृजन , बधाई

    ReplyDelete
  35. मुहावरों का सटीक प्रयोग किया है ...
    और लाजवाब और प्रभावी रचना है... सरकार पे खरी उतरती है ..

    ReplyDelete
  36. Behtrin, vicharniy rachna
    aabhaar.

    ReplyDelete
  37. बहुत सही और सटीक रचनाएँ.

    ReplyDelete
  38. आज के हालातों को अलग ढंग से पेश किया है आपने..
    अंधेरनगरी में अंधे लोग रह रहे हैं..

    ReplyDelete
  39. APRAADH- BODH rachnaa achhi lagi...

    saadar

    ReplyDelete
  40. बहुत सही ,सुन्दर लिखा है.

    ReplyDelete
  41. एकदम सटीक और सही लिखा है....मुझे सारी क्षणिकाएं बहुत पसंद आई..

    ReplyDelete