Pages

Friday, July 8, 2011

नियत ताप पर

नियत ताप पर
उबलते विचार
भाप बन उड़ जाते
या जल जाते तो
मर जाता मन
नौ रसों के साथ..
और छूट जाता
बेकार सा करते रहना
निरर्थक जतन...
जीवन सरल हो जाता
झोपड़ी महल हो जाता.
शून्य भी दिखता
कुछ भरा-भरा
सांय-सांय करती
हवाएं भी
एक छोर से दूसरे छोर तक
करती रहती अठखेलियाँ
जिसके संग
मन भी हवा बन जाता
और रह जाता
अपने बालपन में ही.
सच! सबकुछ
कितना सरल हो जाता.
पर
नियत ताप पर भी
उबलते विचार
उफन-उफन कर
लगते हैं गिरने
बूंदों में ही सही
और हर बूंद
बराबर हो जाता है
एक-एक
परमाणु बम के.....
अपने अन्दर दबाये हुए
उस विध्वंसात्मक
विपुल ऊर्जा को..
जो परिवर्तन के लिए
हर हाल में तत्पर है
अपने नियमानुसार...
उसी नियत ताप पर
उसे बदलना भी होगा
सृजनात्मकता में...
ताकि
नियत ताप पर भी
जनमती रहे
कालजयी-कृतियाँ.

51 comments:

  1. निश्चय ही ऐसा ही हो ...तथास्तु !

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन.

    आपकी हर कविता में कोई न कोई तथ्य छिपा होता है इससे कविता की सार्थकता भी बढती है.

    सादर

    ReplyDelete
  3. behad khub!..... niyat taap par... shabd to naya arth deti hui si rachna... ubalte khayal bahut pasand aaye....

    ReplyDelete
  4. बदलाव जरुरी है ........

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर.ये जिजीविषा बनी रहे.

    ReplyDelete
  6. तापमान नियत होना चाहिए :):) अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. बधाई |
    अच्छी पोस्ट ||

    ReplyDelete
  8. सरल जीवन और झोपड़ी में महल..
    आत्मिक सुख का अनुभव होने के बाद ही ऐसी अभिव्यक्ति संभव है..
    बधाइयाँ

    ReplyDelete
  9. अमृता जी क्या कहूँ जवाब नहीं आपकी रचना का. शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  10. Niyat taap par....achchha likha hai aabharNiyat taap par....achchha likha hai aabhar

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर अभिनव बिम्ब लिए रचना ,(कृपया "छोड़ छोड़ "को छोर -छोर और ऊर्जा करलें शुद्ध रूप में ."उर्जा " को .
    नए क्षितिज तोड़तीं रहतीं हैं आपकी रचनाएं .विध्वंश को सृजन में बदलने का आवाहन करती सीं.

    ReplyDelete
  13. कहानी अनुभव के ताप में क्रमशः तपती हुई ज़िंदगी के रूप में बदलती ओर विकसित होती हुई प्रतीत होती है।

    ReplyDelete
  14. अच्छी प्रस्तुति !... बधाई |

    ReplyDelete
  15. नियत ताप की नियंत्रित स्थिति बड़ी कठिनाई से मिलती है. सृजनात्मकता के लिए बनाना भी पड़त है. निरंतरता और समयानुशासन इसमें बहुत बड़ी भूमिका निभाता है.

    ReplyDelete
  16. काश यह सब संभव हो पाता ....बदलाव जरुरी है और यह तो निहायत ही .....आपका आभार

    ReplyDelete
  17. वाह जी, बहुत सुंदर रचना।
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  18. कल 10/07/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  19. बहुत सार्थक रचना...बधाई स्वीकारें
    नीरज

    ReplyDelete
  20. अमृता फिर एक बार तृषित मन की प्यास बुझाई शब्दों की अमराई ने...मन के ताप को बर्फ कर दिया आपकी अद्भुत लिखाई ने....हम सब के भीतर एक विध्वंसात्मक ऊर्जा अनिर्बाध बहती रहती है....हम पर निर्भर करता की हम उससे कालजयी कृतियों का निर्माण करें या उसके लावा को बहिष्कृत कर अपने दावानल से प्रकृति की विनाशलीला देखें .....हमारी सृजनात्मकता हमारे कर्म और सोच का समन्वय है...एक दोहा बचपन से सुनते आया हूँ...
    “बुरे लागत सीख के बचन ,हिये बिचारे आप।
    कड़वी भेसज बिन पिये, मिटे न हिय को ताप॥
    यही जिंदगी है...

    अद्भुत और दार्शनिक...शब्दों और बिंबों की पकड़ जबर्दस्त है आपको...बहुत कुछ सीख रहा हूँ आपसे...पर संवाद सीमित हैं तो मन मसोस कर रह जाता...हर शुक्रवार और शनिवार का इंतज़ार रहता है...कुछ अच्छा पढ़ने को मिलता है...

    ReplyDelete
  21. बेहतरीन...बहुत सारगर्भित रचना

    ReplyDelete
  22. बहुत प्रभावशाली रचना !

    ReplyDelete
  23. खूबसूरत रचना दोस्त |

    ReplyDelete
  24. सार्थक सोच और निर्माणात्मक कल्पना को बहुत सुन्दर शब्द दिया है आपने...
    भावों की गहराई .......क्या कहना !

    ReplyDelete
  25. Ishwar ne aapko adbhut kalpanaaur bimbit karne ki shakti bhi dee hai.Mai to bus abhibhut ho jata hoon.Meri najar to bus aanewale wale kalha per hai jab kaljayee bhawnaon ke sagar se jude kritian prawhatit ho tatha janmanas ko jeene ka naya aayam mile, isi aashae me.......

    ReplyDelete
  26. विज्ञान की शब्दावली -नियत ताप- का प्रयोग करने से कविता की संप्रेषणीयता में वृद्धि हुई है।

    बहुत सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  27. नई और सार्थक सोच को शब्दों में अच्छा पिरोया है आपने.

    ReplyDelete
  28. Amrita,

    DO KAVITAIN PARHI. MERE PAAS SHABD HI NAHIN KI MAIN KUCHH KAH SAKUN. JO JO SAB NE KAHAA HAI, MAIN SAHMAT HOON.

    Take care

    ReplyDelete
  29. यक़ीनन ...और यह सशक्त सोच बनी रहे..... बहुत बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  30. सही कहा है आपने अवस्था परिवर्तन के दौरान ताप नियत ही रहता है लेकिन तरल से ठोस और तरल से वाष्प बन उड़ जाता है पदार्थ एक और अवस्था में .व्यवस्थित या अव्यवस्थित होने को सर्जन से ध्वंश या ध्वंश से सृजन की और .खूबसूरत अंदाज़ आपकी रचना के

    ReplyDelete
  31. एक सधी हुई एवं सार्थक विचारों से परिपूर्ण रचना।

    बधाई।

    ------
    TOP HINDI BLOGS !

    ReplyDelete
  32. बहुत उम्दा,अमृता जी ! very intelligent poetry as ever !

    ReplyDelete
  33. नियत ताप पर . सामान्य दबाव में संलयन से उत्सर्जित उर्जा कालजयी रचना ही होगी . आभार .

    ReplyDelete
  34. बहुत बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  35. प्रिय ब्लोग्गर मित्रो
    प्रणाम,
    अब आपके लिये एक मोका है आप भेजिए अपनी कोई भी रचना जो जन्मदिन या दोस्ती पर लिखी गई हो! रचना आपकी स्वरचित होना अनिवार्य है! आपकी रचना मुझे 20 जुलाई तक मिल जानी चाहिए! इसके बाद आयी हुई रचना स्वीकार नहीं की जायेगी! आप अपनी रचना हमें "यूनिकोड" फांट में ही भेंजें! आप एक से अधिक रचना भी भेजें सकते हो! रचना के साथ आप चाहें तो अपनी फोटो, वेब लिंक(ब्लॉग लिंक), ई-मेल व नाम भी अपनी पोस्ट में लिख सकते है! प्रथम स्थान पर आने वाले रचनाकर को एक प्रमाण पत्र दिया जायेगा! रचना का चयन "स्मस हिन्दी ब्लॉग" द्वारा किया जायेगा! जो सभी को मान्य होगा!

    मेरे इस पते पर अपनी रचना भेजें sonuagra0009@gmail.com या आप मेरे ब्लॉग sms hindi मे टिप्पणि के रूप में भी अपनी रचना भेज सकते हो.

    हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई?

    नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है! मेरा ब्लॉग का लिंक्स दे रहा हूं!

    हेल्लो दोस्तों आगामी..

    ReplyDelete
  36. अमृता जी.........आज बहुत दिनों बाद आपके पुराने ढंग में कुछ पढने को मिला ......दिल खुश हो गया .......बहुत खूबसूरत|

    ReplyDelete
  37. नये शब्द व उपमानों का प्रयोग अच्छा लगा,
    आभार,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  38. अमृता जी आशा के मुताबिक फिर वही काव्य सुन्दरता मिली. मैं सदैव आपका ब्लॉग यही सोच कर खोलता हूँ कि आज नया विचार मिलेगा और कभी निराश नहीं होता. शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  39. बहुत ही अच्छी कविता बधाई अमृता जी |

    ReplyDelete
  40. बहुत सुन्दर और लाजवाब रचना ! शानदार प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  41. bahut dino baad aya hun,exam ke karan busy tha,.......... bahut achi rachna likhi hai apne....
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  42. सुन्दर अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  43. सुन्दर प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  44. नियत ताप पर ही सर्वकालिक सृजन संभव है.अतिसुन्दर.

    ReplyDelete