Pages

Saturday, June 11, 2011

परमारथ


मेरे अंधे अनुचरों
मैं अति महत्वाकांक्षी  
सिद्धि सिद्ध कर
मैंने दिया तुम्हें
वो दिव्य दृष्टि
जिससे तुम मुझे
देख सको
अपनी-अपनी
आकांक्षा के आईने में....
मेरी महानता है कि
आईने के पीछे चढ़ा
केसरिया मुलम्मे को
रगड़-पोछ कर
हो गया मैं
थोड़ा पारदर्शी......
देखो मेरा विशाल साम्राज्य
कब्र में लेटा सिकंदर भी    
रश्क करता होगा
इसे देखकर.......
थोड़ा और
पारदर्शी हो जाऊं तो
कब्ज़ा ही न जमा लूँ
पहले पायदान पर......
आओ कुछ कर्म करें
एक लम्बी सांस
अपने अंदर करो
तुम अपनी तिजोरी से
और तुम
अपनी अंटी से
परमारथ के  लिए
कुछ बाहर करो.........
बाजार में
बड़ी मारामारी है
देश में या तो बेकारी है
या केवल भ्रष्टाचारी हैं...
मेरे पीछे चलना
तुम्हारी लाचारी है.....
और तो और    
विरोधियों के हाथ
सान धरा आड़ी है......
हमें मिलकर
संभलकर चलना है
काले-गोरे का
भेद मिटा
परमारथ के लिए
एक-दूसरे को
छलना है.


         

45 comments:

  1. बहुत अच्छी रचना ... यह कटाक्ष किस पर साधा है ?

    ReplyDelete
  2. वाकई यह प्रश्न शेष है कि आपने अंतिम कटाक्ष किस पर किया है हालाँकि इसका उत्तर देना आपके लिए बाध्यकारी नहीं है.
    सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  3. गहरा कटाक्ष है ... व्यवस्था के प्रति क्षोभ है जो रचना में उतरा है ...

    ReplyDelete
  4. परमारथ के नाम पर ये छलना छलनी तो जैसे हमारी नियति बनती गयी हो !

    ReplyDelete
  5. इस दिव्यदृष्टि से सब को छला ही तो जा रहा है॥

    ReplyDelete
  6. व्यवस्था के प्रति गहरा कटाक्ष ।

    ReplyDelete
  7. इस अप्रतिम रचना के लिए बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  8. बहुत स्पष्ट सोच....आज के वक़्त के अनुरूप ...आज के समाज पर ....बाबाओं के जाल पर ......बहुत खूब....
    सोचने को मजबूर करती आपकी लेखनी

    ReplyDelete
  9. इक्कीसवीं सदी का परमार्थ...

    ReplyDelete
  10. सोचने को मजबूर करती रचना,
    आभार- विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. व्यंग की धार तेज है . सान धरी आरी अब निस्तेज है .

    ReplyDelete
  12. समसामयिक कटाक्ष..... बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  13. परमारथ के लिए एक दुसरे को छलना है. जबरदस्त कटाक्ष सीधी सरल रचना के द्वारा.

    सुंदर प्रस्तुति के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  14. intense sarcasm and a thought stimulating write up !!
    Loved it.

    ReplyDelete
  15. har bar ki tarah uttam rachna...jaanta hun kataksh kis par hai...you ki bhog mayi rajneeti aur pad lolupta ki chaah...aah...bahut hi saamyik aur satya kathan amrita..
    Main Hyderabad mein tha aur Friday ko poori tarah utsuk ki aaj kuchh achha padhne ko milega...par ye intezaar saturday tak ke liye khinch gaya...aur intezar ka fal meetha hota hi hai...
    bahut achhi kavita aur seekh bhi.

    ReplyDelete
  16. परमार्थ के लिए एक दूसरे को छलना है....
    वाह, बेजोड़ बात कही है आपने।
    बहुत बड़िया।

    ReplyDelete
  17. सुंदर रचना ...विचारों की गहन अभिव्यक्ति
    समसामयिक कटाक्ष..... बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  18. Fine poem.You are writing thought poems in a good manner.My best wishes.
    dr.bhoopendra
    mp

    ReplyDelete
  19. Bahut acha vayang kiya hai mam. . . . . .
    Jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  20. इतने साड़ी टिप्पणीयों में मुझे नहीं लगा कोई समझ पाया या जान कर अनजान बने....पर मैं समझ गया ये निशाना कहाँ लगा हैं.....आपसे सहमत हूँ ......एक एक शब्द सत्य को उजागर कर रहा है......ज़बरदस्त व्यंग्य.......आपके साहस को सलाम ऐसी पोस्ट के लिए |

    ReplyDelete
  21. मेरे ब्‍लाग पर आपके आगमन का धन्‍यवाद ।
    आपको नाचीज का कहा कुछ अच्‍छा लगा, उसके लिए हार्दिक आभार

    आपका ब्‍लाग भी अच्‍छा लगा । बधाई

    ReplyDelete
  22. सटीक...एवं शानदार रचना....

    ReplyDelete
  23. बढ़िया कटाक्ष !

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर और ज़बरदस्त रचना लिखा है आपने! शानदार कटाक्ष!

    ReplyDelete
  25. बहुत ही सुंदर कविता अमृता जी बधाई और शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  26. अंतिम पंक्तियाँ बेहतरीन हैं...
    "काले-गोरे का
    भेद मिटा
    परमारथ के लिए
    एक-दूसरे को
    छलना है."

    एक अलग तरीके से वही बात!

    ReplyDelete
  27. मुझे लगता है कि इस रचना की एक हार्ड कापी सही जगह पहुंचा दी जानी चाहिए।
    अच्छा व्यंग..ढोंगियों के लिए

    ReplyDelete
  28. देखने और दिखाने का युग है |

    कलयुग है |



    दुनिया रंगों का चश्मा लगाकर

    ही देखी जा रही है |

    लाल, केशरिया

    नीला हरा

    सफ़ेद |

    और कई भेद ||



    पर कोई झंडा अब-तक काला नहीं

    कोई दिल के रंग का झंडा कैसे बनाए |

    दिल की कालिमा बाहर कैसे लाये, कैसे दिखाए ||

    ReplyDelete
  29. अमृता तन्मय जी सुन्दर रचना सोचने को विवश करती व्यंग्य और कटाक्ष छलना काला गोरा क्या खूब निशाना रहा
    शुक्ल भ्रमर५

    ReplyDelete
  30. बिलकुल सही और यथार्थ वाक्य है आपका परमार्थ के बारे में.परमार्थ के नाम पर ही तो लुटेरे,काले व्यापार वाले जनता को छल रहे हैं.

    ReplyDelete
  31. काले गोरे का भेद मिटा ,
    परमार्थ के लिए -
    एक दूसरे को छलना है ।
    अच्छी रचना ,विडंबना यही है गोरे हाथ नहीं आते .छली जाती है सृजना .

    ReplyDelete
  32. आईने को रगड़ कर पारदर्शी बनाने की कल्पना बिलकुल ही अभिनव प्रयोग है.इन पंक्तियों के लिए मेरी विशेष बधाई स्वीकार करें.प्रथम आगमन को नियमित आगमन बनायें.

    ReplyDelete
  33. बहुत सही बात कही है आपने.
    आजकल लोगों का परमार्थ भी अपने स्वार्थ में निहित होता है.

    सादर

    ReplyDelete
  34. यह वास्तव में केवल कविता ही है या व्यंग्य । आज के माहौल ने इतना भ्रमित कर दिया है कि सच और व्यंग्य मेरी समझ में ही नहीं आ पाता

    ReplyDelete
  35. एकदम सीधे प्रहार किया है आपने आज की व्यवस्था पर....माहौल पर....समाज पर...
    सांस्कृतिक गिरावट के इस दौर में इस सार्थक लेखन के लिए आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  36. गहरे भावों से लबरेज़ कविता.

    ReplyDelete
  37. तथाकथित परमारथ ..
    जोरदार रचना

    ReplyDelete
  38. aap achchha likhtee hain aur achchha likhnewalon se apekshaa hotee hee hai . kabhee mere blog par bhee aaiye .

    ReplyDelete
  39. आज के भ्रष्टाचारी माहौल पर करारा व्यंग...

    ReplyDelete
  40. धारदार व्यंग्य रचना
    सब कुछ स्पष्ट है किन्तु कुछ लोग अपने चश्मे से देखकर कुछ ज्यादा ही खुश दिख रहे हैं

    ReplyDelete
  41. Gajab ki rachna... Bahut sare rahasya aapki rachna se nikal kar baahar aati hain.. Bahut der kar di mujhe to kab ka aapka anuchar ban jana chahiye tha... Congrats !

    ReplyDelete