Pages

Friday, May 27, 2011

प्रेम-पुलक

प्रेम धागा जो कच्चा हो तो
मोटे नायलान   से    गूँथवाऊं
फिर भी  जो   टूट  जाए  तो
फेवी-क्विक      से     सटवाऊं


प्रेम पंथ ज्यों हो कठिन तो
मखमली  कालीन  बिछवाऊं
तिस पर भी    कुछ चुभे तो
हवाई-मार्ग   यूज    में   लाऊं
 
 
प्रेम गली  अति सांकरी तो
उसपर   बुलडोजर   चलवाऊं
फोर-लेन पर जाम लगे तो
चार   ओवर-ब्रिज    बनवाऊं


प्रेम  जो   बाड़ी    उपजे  तो
हाई-टेक    खेती     करवाऊं
यहाँ जगह जो कम पड़े तो
चाँद पर भी कब्ज़ा  जमाऊं


प्रेम जो  हाट   बिकाय  तो
कौड़ी के भाव खरीद लाऊं
हवाला   से    स्विसबैंक  में
व कुछ चैरिटी  में  बटवाऊं


और अंत में
 
प्रेम का पाठ   जो   पढ़े  तो
स्वयंभू पंचायत    बिठवाऊं
प्रेमी-युगल   बच     न  पाए
सो ऑनर किलिंग  करवाऊं.  
  
 

42 comments:

  1. नायलान का प्रेम धागा तो ईर्ष्या की आग में जलेगा पर सच्चे प्रेम में नहीं टूटेगा :)

    ReplyDelete
  2. बातों बातों में तीखा किन्तु सार्थक व्यंग्य किया है आपने.

    सादर

    ReplyDelete
  3. गंभीर विषय पर व्यंग्य की तलवार से वार , बहुत अच्छा

    ReplyDelete
  4. a very serious issue, but pointed out in a bit funny way !!
    nice post.

    ReplyDelete
  5. ओह हो आज तो तेवर ही अलग है मगर अच्छे हैं।

    ReplyDelete
  6. prem ko fevi quick se satana ... soch to kamaal ki hai

    ReplyDelete
  7. सार्थक व्यंग्य.........

    ReplyDelete
  8. प्रेम कि पाठशाला तो बढ़िया चलेगी इस तरह.

    ReplyDelete
  9. तीखे व्यंग्य का तेवर देखने लायक है. खापिया पंचायतों को जितनी जल्दी अक्ल आए उतना अच्छा है.

    ReplyDelete
  10. लाज़वाब और रोचक प्रस्तुति...बहुत सटीक पर रोचक व्यंग..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब !पूरे परिवेश को समेटती बुहारती ,ललकारती रचना .बधाई !

    ReplyDelete
  12. प्रेम का नया पन्ना पड़ा बहुत अच्छा ,
    बिना फेवी क्विक के प्रेम करो तो बहुत अच्छा .

    ReplyDelete
  13. अरे राम राम !
    बड़े खतरनाक इरादें हैं इस बार आपके,
    अमृता जी,मुझे तो डर लग रहा है सच्ची सच्ची.

    आपको ऐसे रंग में देखना भी अच्छा लगा.

    मेरे ब्लॉग पर आपका आना बहुत अच्छा लगा.
    बहुत बहुत आभार.

    ReplyDelete
  14. Vyang ki vidha Nirali hai,
    jo samjhe wo bhara,
    jo na samjhe wo khali hai.
    har shabd vyang baan ban se,
    chubh kar karein hamein ghayal,
    aap bhavuk arthpoorn kavita ki,
    janni aur kavyapushp ki maali hai.

    Amrita, bahut hi accha likha hai aapne.Aajkal prem hat hi bikte aur log ya to haat ki bhasha samjhte ya khaat ki.Prem Baat ki bhasha kaun samjhta hai...
    Bahut badhiya...agar samay mile to KAHI ANKAHI aur BOLTI TASVERREIN ko dekh lijiyega...

    ReplyDelete
  15. आधुनिक युग का प्रेम बोध :)

    ReplyDelete
  16. आज तो वाकई बिलकुल अलग तरह की रचना है tevar hi alag hai..|तीखा व्यंग है ..!
    बहुत अच्छी लगी|

    ReplyDelete
  17. :):) यह प्रेम पुलक भी खूब रहा ..

    ReplyDelete
  18. अमृता तन्मय जी सुन्दर सार्थक और गंभीर रचना प्रेम के दुश्मन के लिए सटीक
    निम्न पंक्ति गजब रही
    प्रेमी युगल बच ना पाए
    सो आनर किलिंग करवाऊं
    शुक्ल भ्रमर ५

    ReplyDelete
  19. नए कलेवर में नया तेवर...हाई-टेक प्रेम का अंत ऑनर किलिंग से...यही तो विडम्बना है...

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर रचना ...... एकदम सटीक पंक्तियाँ.....

    ReplyDelete
  21. तीखी मिर्ची सी है सभी व्यंग रचनाएँ.
    पुराने दोहों को नया तडका अच्छा लगा.
    प्रेम तो फिर भी प्रेम ही है जी.
    शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  22. bhut hi acchi aur anyi tarh ki rachna...

    ReplyDelete
  23. सदियों से चले आ रहे भावों को नयी उपमाएं और शब्द दिए हैं आपने...बेहतरीन रचना...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर, वाह ही निकल रही है आपकी चटपटी सी प्रस्तुति पर !

    ReplyDelete
  25. छा गयीं अमृता जी....दोहों को नयी उपमा के साथ वो भी व्यंग्य में लपेट कर.....शानदार |

    ReplyDelete
  26. हाहाहहाह बहुत सुंदर व्यंग। अच्छा लगा

    ReplyDelete
  27. वाह-वाह.. प्रेम को एक नए रूप में पढ़ा आज कई दिनों बाद.. वाकई में बेहतरीन.. और अंत तो आज की सच्चाई है...

    आभार
    सुख-दुःख के साथी पर आपके विचारों का इंतज़ार है..

    ReplyDelete
  28. अमृत सा लाजबाब कविता ! बधाई !

    ReplyDelete
  29. अच्छा व्यंग्य !

    ReplyDelete
  30. प्रेम गली अति सांकरी ,
    एक बाईपास बनवाऊ ।
    प्रेमी प्रेमिका को "खाप "से बचाऊ .

    ReplyDelete
  31. प्रेम पाठ पर व्यंग्यात्मक तेवर. वाह.

    ReplyDelete
  32. बहुत खूब..!!

    प्रेम को हवाला से स्विसबैंक में ट्रान्सफर करने का ख़्याल बढ़िया है।

    अनेकोनेक बधाई।

    मार्कण्ड दवे।
    http://mktvfilms.blogspot.com

    ReplyDelete
  33. wow...!!
    new idea for everything..
    Excellent !!!

    ReplyDelete
  34. lagta hai prem ka palda kamjor hota dekh ise majbut banane ke sare artificial jatan khojne ki koshish ki gayi hai. kuch kam khud karne ka irada hai to kucha satta ki tarah kisi ko nirdeshit karke karwane jaisi abhivyakti aapkii kavita me najar aati hai.

    ReplyDelete
  35. बहुत हे अच्छा पोस्ट है जी आपका !मेरे ब्लॉग पर जरुर आए ! आपका दिन शुब हो !
    Download Free Music + Lyrics - BollyWood Blaast
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  36. एक दम अलग हटकर लिखा है आपने। पढ़ने का आनंद बयान नहीं कर सकता ... पर अंत का तीखा व्यंग्य दिल को चीर गया ...!
    सामाजिक व्यवस्था पर तीखा कटाक्ष।

    ReplyDelete
  37. तीक्ष्ण !
    हास्य भी और व्यंग भी !

    ReplyDelete
  38. आपका लिखने का तरीका बहुत ही रोचक है... बेहद पसंद आई यह रचना...



    प्रेम रस

    ReplyDelete
  39. बहुत अच्छी हास्य रचना

    ReplyDelete
  40. वाह! आनंद से भर दिया ...

    ReplyDelete
  41. यह क्या हुआ? सुखद से एकदम दु:खांत? सामयिक रचना में लोकगीत का रंग अच्छा लगा।

    ReplyDelete