Pages

Friday, April 15, 2011

देखना है

एक झोंका
हवा का
हवा दे गयी 
दबी चिंगारी को ..
या
मरे बीज में
भर प्राण
दे गयी 
अपनी गति
अपनी उर्जा ...
देखना है
लगती है आग
निर्जन में..
या
बनता है
कोई वटवृक्ष . 

51 comments:

  1. ऐसी सुंदर कविताओं का वटवृक्ष खडा कीजिए :)

    ReplyDelete
  2. वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

    ReplyDelete
  3. देखना है
    लगती है आग
    निर्जन में
    या
    बनता है
    कोई वटवृक्ष

    निर्जन में आग नहीं लग सकती ..वहां तो आप वटवृक्ष ही खड़ा कीजये ....गहरे अहसासों से परिपूर्ण रचना ....आपका आभार

    ReplyDelete
  4. her aag ek bijaropan karti hai... banta hai vatvriksh

    ReplyDelete
  5. वटवृक्ष के लिए शुभकामनायें ...वटवृक्ष ही देखना चाहते हैं ......!!
    आशा ढूँढती हुई सुंदर रचना .......!!

    ReplyDelete
  6. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (16.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  7. कम शब्दों में उत्कृष्ट कविता /रचना कौशल का कमल /बधाई अमृता जी

    ReplyDelete
  8. एक झोंका हवा का ऐसा बहायें
    सभी कुंठाओं में आग लगा जाएँ
    एक झोंका हवा का फिर ऐसा बहायें
    प्यार और विश्वास का वट वृक्ष जमा जाएँ.

    आपकी बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आभार.
    मेरे ब्लॉग पर आपके आने का बहुत बहुत शुक्रिया.

    ReplyDelete
  9. अच्छे है आपके विचार, ओरो के ब्लॉग को follow करके या कमेन्ट देकर उनका होसला बढाए ....

    ReplyDelete
  10. वटब्रक्ष खड़ा करना ही पड़ेगा
    सुन्दर रचना, शुभकामनायें ....

    ReplyDelete
  11. tapti dharti ke bheetar se hi navankur padap nayi urza ke sath janm lete hain...aur saare jhanjhawaaton ko sahte huye wahi navankur vatvriksha me tabdeel ho jaate.

    Nayi chetna ko namaskar.

    ReplyDelete
  12. गागर में सागर. बहुत उम्दा.

    ReplyDelete
  13. चंद पंक्तियों द्वारा आपने भी किया है जो आपने कविता में लिखा है....हवा दे गयीं आप भी .....नमस्कार...

    ReplyDelete
  14. जब सोच सकारात्मक हो तो वटवृक्ष ही बनेंगे।

    ReplyDelete
  15. bhut hi sunder rachna... ehsaaso se bhari...

    ReplyDelete
  16. बहुत खूब.
    उम्मीदों की अभिव्यक्ति.
    बहुत सुन्दर शब्द रचना.

    ReplyDelete
  17. अमृता जी ...
    बहुत उम्दा पेशकश....ऊर्जा का प्रयोग ..सकारत्मक या नकारत्मक ..अलग अलग असर अलग अलग परिणाम ... बधाई इस सार्थक रचना के लिए

    ReplyDelete
  18. अमृता जी ...
    ... बधाई इस सार्थक रचना के लिए

    ReplyDelete
  19. बेहद सुन्दर रचना.........
    शुभकामनाओं सहित....
    बधाई.....

    ReplyDelete
  20. हाँ, उसी बीज में वट वृक्ष होने की संभावना होती है जो निर्जन में आग लगा सकता है। शेष तो हैं ही कुचले जाने के लिए।
    ...बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
  21. मुझे आपकी हर कविता को समझने के लिए उसे दुबारा पढ़ना पड़ता है..
    :)

    ReplyDelete
  22. यहाँ दोनों के लिये पर्याप्त संभावनाएँ हैं, अस्तित्त्व अति विशाल है !

    ReplyDelete
  23. सही लिखा है आपने... भविष्य पर सबकी नज़रें टिकी रहती हैं क्योंकि आज जो किया है उसका फल कल ही मिलेगा..
    सुन्दर रचना..

    तीन साल ब्लॉगिंग के पर आपके विचार का इंतज़ार है..
    आभार

    ReplyDelete
  24. बहुत खूब ...सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  25. देखना है
    लगती है आग
    निर्जन में
    या
    बनता है
    कोई वटवृक्ष

    बहुत सुंदर .....

    ReplyDelete
  26. अमृता,मुझे भी अच्छा लगता है आपके ब्लॉग पे आना और आपकी कविताओं की पढ़ना। अक्सर ऐसा होता है की पढ़ी हुयी कविताओं का पुनर्पठन करता हूँ और नए ही आनंद का अनुभव करता हूँ...क्यूंकी हर बार पढ़ने के बाद कुछ नए अर्थ समझ में आते...गहन अर्थों वाली आपकी कविता मुझे बेहद पसंद आ रही...
    हाँ, एक और बात...साफ़गोई से कहूँ तो यही की आपका मन्तव्य भी मुझे बेहद अच्छा लगता है और उनकी भी प्रतीक्षा रहती है...सराहना के लिए आभारी हूँ।

    ReplyDelete
  27. गागर में सागर.

    ReplyDelete
  28. अमृता जी,

    बहुत सुन्दर....बिलकुल आग लगेगी....तभी तो सोना ताप कर कुंदन बनेगा......शानदार |

    ReplyDelete
  29. Loved ur blog... evry post is better den da other... da depth of dis poem makes it more beautiful keep writing :)

    ReplyDelete
  30. just wait and see,what it brings to you. brief in words but broad in meaning. thanks.

    ReplyDelete
  31. सोच सकारात्मक है तो निश्चित रूप से वटवृक्ष ही बनेगा |

    ReplyDelete
  32. "देखना है
    लगती है आग
    निर्जन में..
    या
    बनता है
    कोई वटवृक्ष ?"

    जीवन में दोनों का ही इंतज़ार करना चाहिए..
    आग का भी और पुन: हरियाली का भी...
    सुन्दर भावोक्ति....

    ReplyDelete
  33. बहुत प्यारे भाव कम शब्दों में ...शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  34. बनेगा बटवृक्ष कोई - निर्जन में कोई आग नहीं लगेगी अमृता जी बहुत सुदर तन्मयता से लिखा आप ने ,आइये अपना सुझाव व् समर्थन हमें भी दें
    शुक्ल्भ्रमर 5

    ReplyDelete
  35. रचना अच्छी है। बधाई।

    ReplyDelete
  36. आज दुबारा आपकी रचना पढी और बिना कमेंट किये जाना अच्‍छा नहीं लगा। सचमुच आप बहुत शानदार लिखती हैं।

    ---------
    भगवान के अवतारों से बचिए...
    जीवन के निचोड़ से बनते हैं फ़लसफे़।

    ReplyDelete
  37. सुन्दर कविता..
    हार्दिक शुभकामनाएं आपको !!

    ReplyDelete
  38. पढ़कर सोचने पर विवश हुई . अच्छा लिखती है
    अच्छी लगी .

    ReplyDelete
  39. बस उसी बटवृक्ष के छाँव की प्रत्याशा है,आशा है :)

    ReplyDelete
  40. Bahut hi prabhaavi ... kuch hi panktiyon mein door ki baat kah di hai ....

    ReplyDelete
  41. amrita ,

    kavita me ek spandan chupa hua hai , jo prem aur jeevan ke prati ek naye utsaah ko janmta hai ..

    badhayi ..

    vijay.

    ReplyDelete
  42. जीवन की पल-पल परिवर्तनशीलता में संभावनाओं का संसार. सकारात्मक.

    ReplyDelete
  43. सवाल पूछती सी रागात्मक कृति .

    ReplyDelete
  44. सोच में डूबी नई पुरानी हलचल से यहाँ आये तो
    सोच में फिर 'तन्मय' हो गए अमृता जी.

    वाह! क्या कमाल है.

    ReplyDelete
  45. "देखना है
    लगती है आग
    निर्जन में..
    या
    बनता है
    कोई वटवृक्ष ?"
    वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  46. अद्भुत अभिव्यक्ति....
    सादर...

    ReplyDelete
  47. बहुत सुन्दर!
    सादर शुभकानाएँ

    ReplyDelete