Pages

Thursday, October 28, 2010

अहंता

विद्वेष
वैमनस्य
विवाद
शीतयुद्ध
न संधि न समाप्ति
एक समान योद्धा
मेरी बनायीं हुई दुनिया
एकतरफ ......
और मैं
दूसरी तरफ
क्या मुझे
मरना पड़ेगा
स्वामी - हंता
अहंता से .

स्वीकार

ठहरने को तो
ठहर जाऊं कुछ पल
तुम्हारे पास
पर मैं रुक नहीं सकती
तबतक , जबतक की तुम
रोकना चाहो मुझे
सँवरने को तो
सँवर जाऊं कई -कई बार
तुम्हारे लिए
पर मैं निखर नहीं सकती
वैसे , जैसे की तुम
निखारना चाहो मुझे
प्रिय ! तब आरोपण क्यों
अगर प्रेम है तो
आओ .......
एक -दूसरे को हम
स्वीकार करें
समग्रता से
सहज रूप में .

Wednesday, October 27, 2010

न्याय

मेरे व्यक्तित्व के
विभिन्न पक्षों को
परस्पर
संतुलित करता है
मेरी आत्मा में
निहित न्याय
मेरी आवश्यकताएं
पूरक माध्यम ......
मेरी गतिशीलता
मेरी अकर्मण्यता
मेरी हिम्मत
मेरा साहस .....
मेरी चेतना में
अद्भुत समन्यवय
दुर्लभ सामंजस्य
जो मुझे बोध कराता है
मेरे कर्तव्य का
मेरे अस्तित्व का
फिर मैं
और क्या अपेक्षा करूँ
उस न्याय से
जो अन्य करते हैं
अपने हिसाब से
मेरे लिए .

अपेक्षा

अपनी दया पर आश्रित मैं
मुझसे कैसी अपेक्षा
सद्गुणों की या
उसकी किसी भी धारणा की
मूल्यों की या
उसकी किसी भी ऊंचाई की
मौलिकता की या
उसकी किसी भी छाया की
सर्वश्रेष्ठता की या
उसके किसी भी दु:स्वप्नों की
मानवता की या
उसकी किसी भी प्रतिबद्धता की
यदि मैं स्वयं से ही
स्वतंत्र हो जाऊं तो
मुझसे की जाने वाली
तमाम अपेक्षाएं
जायज है .

Tuesday, October 26, 2010

उत्तरदायी

मेरी नैतिक शिक्षा
हर अच्छे और बुरे
कार्यो को मेरे
वैयक्तिक पहल व
साहसिकता की भावना से
करने देती है ......
हालाँकि
बहुत बार ऐसा भी
होता है कि स्वयं
मेरा नैतिक अस्तित्व
नष्टप्राय होता है
जिसपर मेरा कोई भी
नियंत्रण नहीं होता है
मैं ही गिरती हूँ
औँधे मुँह
पुनः
मैं ही उठती हूँ
सतत प्रगतिशील मैं
मेरे द्वारा होती है
मेरी ही प्रगति
जिसकी उत्तरदायी
केवल मैं ही होती हूँ .

Monday, October 25, 2010

पश्चाताप

जीवन की असारता
पश्चाताप
जिसे सुनने के लिए
केवल मैं या
एकांत तथा शांत प्रकृति
आँखों को दिखता
क्रूर नृत्य
प्रलय की लहरों का
जो बाहुपाश में मुझे
जकड़ती जा रही है
और मैं हो रही हूँ
विलीन तथा विनष्ट
स्वयं में ही ........
पश्चाताप में
निमग्न होकर भी
कोई शक्ति मुझे
देती है प्रेरणा
आभ्यंतर प्रेरणा
कर्मशील होने की
मैं पुनः
आसक्त होती हूँ
जीवन के प्रति
मुझमें संचार होता है
आशा का
सुनहरे तीर बरसाती
अलौकिक सुबह
मुझे आलोकित करती है
जिसमें दिखता है प्रेम
मेरा प्रेम
मंद-मंद मुस्कुराता हुआ
दूर होकर भी
बहुत पास बहुत पास
मेरे पैर स्वतः
बढ़ चलते हैं
धीरे -धीरे
धीरे -धीरे
उसकी ओर .... .

वरदान

क्यों मैं डालूं तुम्हारे पैरों में
अपनी कल्पनाओं की बेड़ियाँ
क्यों मैं बांध लूँ तुम्हें
अपने इन्द्रधनुषी सपनों में
क्यों मैं घेर लूँ तुम्हें
अपनी बांहों के घेरे में
क्यों मैं बनाऊं तुम्हारे लिए
अपनी सीमाओं का लक्ष्मण रेखा
क्यों मैं खींचती रहूँ तुम्हें
अपने तन मन के आकर्षण में
मेरे लिए तुम्हारा भावस्पर्श ही
अद्भुत वरदान है
जिससे मैं पाषाण से बन गयी
जीती जागती इन्सान
परिपक्व चेतना युक्त
और तुम्हारे असीम सीमा में
हो गयी अवस्थित
साक्षी भाव में तन्मय
तुममे तन्मय .

Friday, October 22, 2010

दीवार

अपने भीतर खड़े
ऊँची - ऊँची दीवारों को
ढहाने के लिए
मैंने बनाया
अपने विचारों का
एक बहुत बड़ा
मजबूत हथौड़ा
जब तब करती रही
प्रहार पर प्रहार
हर प्रहार के बाद
चकनाचूर होकर
गिर जाता मेरा ही
एक व्यर्थ विचार
अब जो शेष है
वो है केवल अनुभवों का
समग्र सार
और मैं निर्विचार
या मैं ही हूँ
कोई सत्य की दीवार .

Wednesday, October 20, 2010

वितंडा

एक कोशिश या
हठधर्मिता
या फिर
बलात सम्प्रेषण
अभिव्यक्ति के अधिकार
के तहत
कविता से संवाद
या फिर
स्वयं के मानसिक
विलासिता के लिए
शब्द निर्मित अत्याधुनिक
भोग विलास के साधन
एक वितंडा
स्वयं में ही
मैं हूँ संसार में
सबसे अमीर .

जतन

मुझमें
तेरा अवतरण
तुझमें
मेरा अवशोषण
हाय ! मुझसे
मेरा ही अवहरण
अब मेरी सांसों में
तेरा ही आवागमन
विरह वेदना में
तेरा अवगाहन
और
मिलन - बेला में
देह को लाँघ
तुम्हे छूने का जतन
क्यों इस पूर्णता में भी
है एक अधूरापन
प्रिय ! यही प्रेम है तो
आओ इसी का
हम लें आलंबन .

Saturday, October 16, 2010

खुली मुट्ठी

चुपके से किसी पल को
मुट्ठी में छुपा लेना
हर पल उस पल को
मुट्ठी खोल देखते रहना
समय ! मैंने तुम्हे मात है दिया
दम है तो मेरी खुली मुट्ठी से
छीन लो उस पल को
जिस पल मैंने स्वयं को
समर्पित किया है
अपने प्रियतम को
और मैं कहीं गुम हूँ
अपने प्रियतम में .

Friday, October 15, 2010

रचना

जब अपना ही मौन
निष्क्रिय कर देता है स्वरतंत्र को
जब अपनी ही सोच
दिखाने लगती है त्रिआयामी चलचित्र
जब अपने ही आँखों में
घूमने लगता है अपना विकृत चेहरा
जब अपनी ही चीख
गूंजने लगती है अपने कानों में
जब अपना ही क्रोध
अंग प्रत्यंग को जलाने लगता है
तब मैं अतिशय कोशिश करती हूँ
सामान्य से सामान्य रहने की
नरम आवरण के अन्दर
बहुत कुछ टूटने लगता है
बार बार होता ये विध्वंस
सृजनात्मक होता तो एक बात होती
पर मेरे विचारों का महल
मलवों में तब्दील होते रहते हैं
मलवे, मलवे ही मलवे
जिसके नीचे दबी मैं
सोच रही हूँ
एक नई सृष्टि की ही
क्यूँ न रचना कर दूँ .

Wednesday, October 13, 2010

विवशता

शब्दों की
व्यग्रता व्याकुलता
अर्थों की सीमा को
तोड़ देने की हठता
स्वयं को इस तरह
व्यक्त करने की अधीरता
हाय ! शब्दों में ही
इतनी अराजकता
प्रिय !
इन बेतरतीब शब्दों से
कुछ अर्थ ग्रहण कर पाओ तो
समझ लेना मेरी विह्व्लता
और शब्दों से
बंघी होने की विवशता
पर प्रिय !
कैसी है ये विषमता
पास जो होते हो तुम तो
शब्दों की क्यों
नहीं होती आवश्यकता
दिखती है क्यों
इतनी निरर्थकता
कुछ कहती है क्यों
उद्वेलित नि : शब्दता
जिसमें हो जाते हैं
दोनों समाहित और
रह जाती है केवल
प्रेम की मधुरता

हो सके तो

हो सके तो बन जाना
तुम मेरे लिए
गर्मी में लू का थपेड़ा
सर्द रातों में
हाड़ को चीड़ती हवा
हो सके तो बन जाना
तुम मेरे लिए
मेरे पैरों के नीचे
दहकता अंगारा
गर्दन पर
लटकती तेज़ तलवार
हो सके तो बन जाना
तुम मेरे लिए
फूटता हुआ ज्वालामुखी
अत्यधिक तीव्रता वाला भूकंप
तब भी मैं अगर
तुमसे करती रहूँ प्यार
तो समझ लेना
प्यार केवल सुखद क्षणों का
साक्षी नहीं होता
बल्कि जीवन संघर्ष में
जीतना भी सिखाता है .

Sunday, October 10, 2010

उलझन

कुछ सवाल  सुलझाते हैं
उलझे अभिवृतियों को
हालाँकि इसका कोई
यथोचित जबाव नहीं होता
फिर भी पतली गली के लिए
बहुधा इसे पीसा जाता है
तर्क-वितर्क के सिलवटटे पर
और इसकी संतति बढती जाती है
कुछ जबाव उलझाते हैं
सुलझे अभिकथनों को
जिसके गर्भ में पनपते रहते हैं
कई कई सवाल और उनकी
कर दी जाती है भ्रूणहत्या
मूक वधिरों की जमात
आजीवन अनुगामी बनकर
नैतिकता व मर्यादा की दासता
स्वेच्छा से स्वीकारते हैं
सवाल और जबाव के बीच
उलझी जिंदगी चलती रहती है
जो जितना उलझे होते हैं
वे स्वयं को हिटलर या सिकंदर
घोषित कर लेते हैं
जो सुलझे होते हैं वे
बुद्ध क्राइस्ट की तरह
मुखरित मौन को धारणकर
युगों युगों के लिए
अपने विचारों को छोड़ जाते हैं .

चाहत

कुछ अलग की चाहत होती तो
बस जाती किसी दूसरे ग्रह पर
जहाँ जीवन असंभव है और
रह लेती हवा पानी भोजन के बिना 
साबित करती अपनी अलग पहचान 
रोज सुबह घंटे भर के लिए 
यहाँ टहलने को आती
दो चार चक्कर लगाकर फिर 
लौट जाती अपने ठिकाने 
कुछ अलग की चाहत होती तो 
बन जाती दंतकथाओं की पात्र
आवश्यकता और इक्षानुसार 
रूप बदल सबों को करती अचंभित 
या फिर जादू की छड़ी लिए 
करती रहती चमत्कार पर चमत्कार 
क्रीडा कौतुक हेतु अपने श्राप से 
लोगों को बना देती तोता मेमना 
मेरी उँगलियों पर ही नाचते सभी 
कुछ अलग की चाहत होती तो 
किसी क्लिष्ट या अस्पष्ट लिपि को 
अभिव्यक्ति का माध्यम बनाती
और बन जाती मैं रहस्यमयी 
पर मैं तो वही हूँ जो सबमें है 
वही  कहती हूँ जो सबका ह्रदय कहता है 
हाँ  मैं एक पुकार हूँ चेतना की 
अस्तित्व की आवाज हूँ मैं 
मैं गूंजती रहूंगी सभ्यता के बाद भी .