Pages

Wednesday, October 27, 2010

अपेक्षा

अपनी दया पर आश्रित मैं
मुझसे कैसी अपेक्षा
सद्गुणों की या
उसकी किसी भी धारणा की
मूल्यों की या
उसकी किसी भी ऊंचाई की
मौलिकता की या
उसकी किसी भी छाया की
सर्वश्रेष्ठता की या
उसके किसी भी दु:स्वप्नों की
मानवता की या
उसकी किसी भी प्रतिबद्धता की
यदि मैं स्वयं से ही
स्वतंत्र हो जाऊं तो
मुझसे की जाने वाली
तमाम अपेक्षाएं
जायज है .

2 comments:

  1. अमृता जी,

    वाह....बहुत गहराई है रचना में .......पूरी रचना बेहतरीन कोई भी एक पंक्ति किसी दूसरी से किसी कद्र कम नहीं..........बहुत खूब |

    ReplyDelete
  2. यदि मैं स्वयं से ही
    स्वतंत्र हो जाऊं तो...
    -------------------------------
    कुछ शब्द नहीं मिल रहा है टिप्पणी के लिए ....

    ReplyDelete